भारतीय व्यापारियों के लिए गाइड

क्रिप्टोकरेंसी माइनिंग क्या है

क्रिप्टोकरेंसी माइनिंग क्या है
नियम तोड़ने पर एक्स्ट्रा पेनाल्टी

लोन पर घर खरीदने से पहले जान लें ये ज़रूरी बात

लोन पर घर खरीदने से पहले जान लें ये ज़रूरी बात

लोग घर खरीदने के लिए बैंकों से होम लोन लेते हैं. यह कोई गलत बात भी नहीं क्रिप्टोकरेंसी माइनिंग क्या है है लेकिन ऐसा करते हुए लोग कई बार गलतियां भी कर देते हैं.

किस्सा न्यूट्रॉन जैक का जिन्होंने शुरू किया रोजगार संहार

किस्सा न्यूट्रॉन जैक का जिन्होंने शुरू किया रोजगार संहार

अमेरिका के लोग इस सामूहिक छंटनी को मास ले ऑफ नाम से जानते हैं.

लगातार चढ़ रहा सोने का भाव, क्‍या बनाएगा रिकॉर्ड?

बिटकॉइन माइन करने वालों के लिए ओपन सिस्टम बना रही जैक डोर्सी की कंपनी

जैक डोर्सी की कंपनी Block Inc एक ओपन बिटकॉइन माइनिंग सिस्टम (Open Bitcoin Mining System) बनाने पर काम कर रही है.

जैक डोर्सी की कंपनी Block Inc एक ओपन बिटकॉइन माइनिंग सिस्टम (Open Bitcoin Mining System) बनाने पर काम कर रही है.

Bitcoin Mining : जैक डोर्सी की कंपनी Block Inc एक ओपन बिटकॉइन माइनिंग सिस्टम (Open Bitcoin Mining System) बनाने पर काम कर रही है. इस सिस्टम का इस्तेमाल करके कोई भी बिटकॉइन माइनिंग कर सकने में सक्षम होगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated : January 14, 2022, 13:12 IST

नई दिल्ली. Cryptocurrency के बड़े समर्थक और ट्विटर (Twitter) के पूर्व सीईओ जैक डोर्सी (Jack Dorsey) ने डिजिटल करेंसी में एंट्री की तैयारी कर ली है. जैक डोर्सी की कंपनी एक ओपन बिटकॉइन माइनिंग सिस्टम (Open Bitcoin Mining System) बनाने पर काम कर रही है. जैक की कंपनी का नाम Block Inc है और वे इसके सीईओ के तौर पर काम कर रहे हैं.

जैक डोर्सी ने स्वयं पुष्टि की है कि उनकी कंपनी, जिसे पहले स्क्वायर के नाम से जाना जाता था, अब एक ओपन बिटकॉइन माइनिंग सिस्टम बनाने की योजना पर काम कर रही है. कंपनी री-ब्रांड होने के बाद अब अपने पेमेंट क्रिप्टोकरेंसी माइनिंग क्या है बिजनेस के परे जाकर ब्लॉकचेन तकनीक (Blockchain Technology) पर काम कर क्रिप्टोकरेंसी माइनिंग क्या है ही है.

क्या है कंपनी की योजना

जैक डोर्सी ने नवंबर 2021 में ट्विटर के चीफ एग्जिक्यूटिव ऑफिसर (CEO) पद से इस्तीफा देने का फैसला लिया था. डोर्सी ने ट्वीट के जरिया बताया कि वह आधिकारिक तौर पर एक खुले बिटकॉइन माइनिंग सिस्टम को बनाने पर काम कर रहे हैं. कंपनी ने पहली बार घोषणा की कि वह अक्टूबर में इस योजना पर विचार कर रहे हैं.

ब्लॉक कंपनी के जनरल मैनेजर (हार्डवेयर) थॉमस टेम्पलटन (Thomas Templeton) ने इस योजना के बारे में जानकारी दी. उन्होंने बताया कि उनका लक्ष्य माइनिंग बिटकॉइन को मार्केट वैल्यू के हिसाब से सबसे बड़ी क्रिप्टोकरेंसी बनाने का है.

Square एक फाइनेंशियल सर्विसेज कंपनी है जो अभी पेमेंट बिजनेस में काम कर रही है. कंपनी अपने कारोबार को ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी में आगे बढ़ाने पर काम कर रही है. वह क्रिप्टोकरेंसी को खरीदने, माइनिंग करने, मेंटेनेंस जैसे काम को आसान बनाने की दिशा में काम कर रहे हैं. कंपनी का मानना है कि ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी आने वाले कल का भविष्य है.

Bitcoin Mining: बिना खरीदे बने बिटकॉइन इन्वेस्टर, जानें माइनिंग के बारे में डिटेल्स

Bitcoin Mining in hindi: वर्ष 2021 में भारत सहित पूरी दुनिया में क्रिप्टोकरेंसी (cryptocurrency) ने काफी महत्वपूर्ण जगह बनाई. भारत देश में बीते दो सालों में क्रिप्टोकरेंसी बाजार (cryptocurrency market) से लाखों निवेशक जुड़े. बीते वर्ष क्रिप्टोकरेंसी और बिटकॉइन मेनस्ट्रीम का हिस्सा बन रहे, लेकिन ये एक नया कॉन्सेप्ट है जो अभी भी बहुत से लोगों को कन्फ्यूज कर रहा है. क्रिप्टो इकोसिस्टम एक वर्चुअल वर्ल्ड है, लेकिन क्रिप्टोकरेंसी माइनिंग क्या है ये चलती है रियल वैल्यू पर. अब आप बिना खरीदे भी बिटकॉइन के मालिक बन सकते हैं, कैसे? माइनिंग से. जी हाँ! चलिए आपको बताते है क्या है बिटकॉइन माइनिंग और इससे जुड़े दूसरे पहलू:

क्या है माइनिंग?

बिटकॉइन माइनिंग एक ऐसी क्रिया है जिसमें डिजिटल कॉइन को बिना खरीदे प्राप्त किया ज सकता है. माइनिंग के माध्यम से नई बिटकॉइन तैयार की जा सकती है, जिसका युज बिटकॉइन के लेनदेन में किया जा सकता है इसके साथ साथ इसे क्रिप्टोकरेंसी माइनिंग क्या है ब्लॉकचेन के लेजर से भी जोड़ा जा सकता है. दुनिया की सबसे क्रिप्टोकरेंसी माइनिंग क्या है पुरानी क्रिप्टोकरेंसी बिटकॉइन की माइनिंग करना और बिटकॉइन स्टोर करना कोई कठिन काम नहीं. माइनिंग करने के लिए आपको इस्तेमाल करना होगा ब्लॉकचेन तकनीक का. आपको बस माइनिंग क्रिप्टोग्राफिक इक्वेशन को हल करना है और प्राप्त करना है क्रिप्टोकरेंसी. इसके लिए उच्च क्षमता वाले कंप्यूटर होने चाहिए. अगर उकक क्षमता वाले कंप्यूटर है तो कोई भी बिटकॉइन माइनिंग कर सकता. माइनिंग करने के लिए पर्याप्त एलेक्ट्रिसिटी की आपूर्ति भी होनी चाहिए.

बिटकॉइन माइनिंग एक टेक्निकल प्रोसेस है और इसमें ज्यादा प्रोसेसिंग पॉवर की आवश्यकता होती है. कंप्यूटर की प्रोसेसिंग पॉवर जितनी अधिक होगी, क्रिप्टोकरेंसी माइनिंग क्या है माइनिंग भी उतनी ही बेहतर तरीके से की सकेगी. माइनिंग के लिए बहुत ज्यादा बिजली की आवश्यकता होती है. सिस्टम ज्यादा ओवरहीट न करे इससे बचने के लिए सिस्टम को समय समय पर कूल भी करना पड़ता है. बिटकॉइन माइनिंग या क्रिप्टो माइनिंग का अर्थ है पजल्स को सॉल्व करना और या बिटकॉइन बनाना। क्रिप्टोकरंसी के संदर्भ में कॉइन भेजने वाले सेंडर उसे रिसीव करने वाले रिसीवर के मध्य कोई बैंक नहीं होता है, सिर्फ कंप्यूटर्स का काम होता हैं। कुछ लोगों द्वारा इन कंप्यूटर्स को ऑपरेट किया जाता है, जो हर ट्रांजेक्शन वैलिडेट करते है। इसके बदले उन्हें बिटकॉइन मिलते हैं। इसी को ही क्रिप्टोकरेंसी माइनिंग क्या है बिटकॉइन माइनिंग कहा जाता हैं।

निष्कर्ष

जबकि हम में से बहुत से लोग क्रिप्टोकरेंसी से अपरिचित हैं, उनके आंतरिक कामकाज और बुनियादी सिद्धांतों को आसानी से वर्णित किया जा सकता है, जिससे हमें इस नवीन अवधारणा की बेहतर समझ मिलती है।

अस्वीकरण: क्रिप्टोकुरेंसी कानूनी निविदा नहीं है और वर्तमान में अनियमित है। कृपया सुनिश्चित करें कि आप क्रिप्टोकरेंसी का व्यापार करते समय पर्याप्त जोखिम मूल्यांकन करते हैं क्योंकि वे अक्सर उच्च मूल्य अस्थिरता के अधीन होते हैं। इस खंड में दी गई जानकारी किसी निवेश सलाह या वज़ीरएक्स की आधिकारिक स्थिति का प्रतिनिधित्व नहीं करती है। वज़ीरएक्स अपने विवेकाधिकार में इस ब्लॉग पोस्ट को किसी भी समय और बिना किसी पूर्व सूचना के किसी भी कारण से संशोधित करने या बदलने का अधिकार सुरक्षित रखता है।

रूस के केंद्रीय बैंक ने क्रिप्टोकरेंसी के इस्तेमाल पर बैन लगाने का प्रस्ताव दिया.

दुनियाभर में इन दिनों क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) की काफी चर्चा है. कई देश जहां इस वर्चुअल करेंसी के इस्तेमाल को बढ़ावा दे रहे हैं, वहीं कुछ देशों ने इसपर बैन भी लगा दिया है. कई जगहों पर क्रिप्टोकरेंसी के फ्यूचर को लेकर सवाल खड़े होने लगे हैं. एक के बाद एक देश इस वर्चुअल मुद्रा को किसी न किसी तरह से प्रतिबंधित कर रहे हैं. इस कड़ी में नया नाम जुड़ा है रूस का. रूस के केंद्रीय बैंक ने गुरुवार को रूसी क्षेत्र में क्रिप्टोकरेंसी के इस्तेमाल और माइनिंग पर बैन लगाने का प्रस्ताव दिया है. इसके पीछे उन्होंने वित्तीय स्थिरता, नागरिकों की भलाई और इसकी मौद्रिक नीति क्रिप्टोकरेंसी माइनिंग क्या है संप्रभुता के लिए खतरों का हवाला दिया है.

सेंट्रल बैंक ने इसके वॉलेटाइल और इलीगल एक्टिविटीज में इस्तेमाल होने का आरोप लगाया. "क्रिप्टोकरेंसीज: ट्रेंड्स, रिस्क्स, मीजर्स" नाम की इस रिपोर्ट में, सेंट्रल बैंक ने कहा कि क्रिप्टोकरेंसी के जरिए लोगों को अपना पैसा देश की इकोनॉमी से बाहर ले जाने का मौका मिलता है, जिससे इकोनॉमी कमजोर हो रही है. इसके साथ ही देश के लिए अपनी मॉनिटरी पॉलिसीज को बेहतर बनाए रखना मुश्किल हो रहा है. कुछ समय पहले ही सेंट्रल बैंक ऑफ रशिया ने देश और विदेश में क्रिप्टोकरेंसी में ट्रेड क्रिप्टोकरेंसी माइनिंग क्या है करने वाले क्लाइंट्स की डिटेल सहित कुछ प्राइवेट मनी ट्रांसफर के संबंध में कमर्शियल बैंकों से जानकारी जुटाने की योजना का ऐलान किया था.

रेटिंग: 4.14
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 752
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *