विदेशी मुद्रा दरों ऑनलाइन

मार्टिंगली पर प्रतिबिंब

मार्टिंगली पर प्रतिबिंब
चित्र: Suyash Dwivedi, CC BY-SA 4.0.

हम भारत में विकिपीडिया के बारे में जागरूकता कैसे बढ़ा रहे हैं

चित्र: Suyash Dwivedi, CC BY-SA 4.0.

करोड़ों बोलने वालों के साथ हिन्दी विश्व की चौथी सबसे अधिक बोले जाने वाली भाषा है। इनमें से अधिकांश वक्ता भारत से हैं जहाँ विद्यार्थियों की संख्या विश्व में सबसे अधिक है और जो विश्व में सबसे अधिक युवाओं वाला देश बनने जा रहा है। पिछले कुछ वर्षों में भारत में इंटरनेट की पहुँच में बहुत बड़े पैमाने पर वृद्धि हुई और एक रिपोर्ट के अनुसार जून 2018 तक भारत में इंटरनेट उपयोगकर्ताओं की संख्या 50 करोड़ होगी।

इस सब के बावजूद अंग्रेजी या हिन्दी दोनों के विकिपीडिया की जागरूकता बहुत कम है। उदाहरण स्वरूप, मध्य प्रदेश में केवल 32% इंटरनेट उपयोगकर्ताओं ने ही विकिपीडिया के बारे में सुना है।

इस स्थिति को बदलने के लिए विकिमीडिया फाउंडेशन ने हिन्दी विकिमीडिया समुदाय, जो स्वयंसेवक हिन्दी भाषा में विकिपीडिया और अन्य मार्टिंगली पर प्रतिबिंब परियोजनाओं पर कार्य करते हैं, के साथ मिलकर हिन्दी विकिपीडिया के प्रचार के लिए एक वीडियो का निर्माण किया है।

वीडियो का निर्माण भारत में ही वीडियो निर्माण एवं डिजिटल मार्केटिंग में पारंगत एक स्थानीय एजेंसी की सहायता से किया गया। वीडियो 3 अप्रैल 2018 को लॉन्च हुई और आप उसे विकिमीडिया कॉमन्स पर देख सकते हैं।

समुदाय मार्केटिंग टीम में अभिनव श्रीवास्तव, अभिषेक सूर्यवंशी, सुयश द्विवेदी, स्वप्निल करम्बेलकर, आशीष भटनागर, बिशाखा दत्ता, मानसा राव और सुभम सोनी मौजूद थे। हमें इन्हें भारत में विकिपीडिया के बारे में और हिन्दी विकिपीडिया का भविष्य कैसे होने वाला है यह जानने के लिए ईमेल किया।

अभिषेक: विकिपीडिया की ब्रैंड जागरूकता बहुत कम है। कई लोग तो इसे गूगल का ही अंग मानते हैं। हमें यह सुनिश्चित करना चाहिए कि विकिपीडिया को एक अलग ब्रैंड के रूप में देखा जाए।

बिशाखा: भारत की 23 भाषाओं में बहुत मेहनत के बाद एक एक वाक्य और एक एक संदर्भ कर के विकिपीडिया परियोजनाओं का निर्माण किया गया है। पर साधारण जनता, एक नए अध्ययन के अनुसार 23.4 करोड़ भारतीय भाषी इंटरनेट उपयोगकर्ताओं, तक पहुंचने के लिए जितने प्रचार की आवश्यकता थी उतनी हमने नहीं की। हमने डिजिटल और मुख्यधारा माध्यमों द्वारा इनका पर्याप्त प्रचार नहीं किया है। जैसे कि एक बॉलीवुड फ़िल्म का प्रचार होता है। बाकी सब कारणों के बावजूद, यह एक बड़ा कारण है कि इसके बारे में कोई भी नहीं जानता है।

स्वप्निल: गाँवों में इंटरनेट और स्मार्टफ़ोनों की कम पहुंच के कारण; इसके साथ ही भारत में 25 से अधिक भाषाएँ हैं और हर भाषा में उच्च स्तर की सामग्री मौजूद नहीं है और अंग्रेजी का उपयोग कम है।

बिशाखा: सबसे अच्छी बातें जो मैंने सुनी हैं उनमें से एक है कि हिन्दी विकि सदस्यदल स्थापित हो गया है। बहुत बहुत मुबारक! पर जब यह ग्रुप बन रहा था तब भी समुदाय के सदस्य उत्तरी भारत में, जहाँ हिन्दी अधिक बोली जाती है, नए सदस्यों को लाने के लिए बैठकों, आउटरीच कार्यक्रमों और कार्यशालाओं का आयोजन करते आ रहे हैं। 14 सितंबर के आस पास हिन्दी दिवस के अवसर पर एक लेख लेखन प्रतियोगिता का आयोजन किया था।और हिंदी विकिपीडिया सदस्य एक नए वीडियो को लेकर अति-सक्रिय हैं जो कि बड़े पैमाने पर हिंदी विकिपीडिया के बारे में जागरुकता पैदा करने के लिए तैयार किया गया है।

अभिषेक: मैं सरकारी प्राधिकारियों के साथ मिलकर आपसी सहयोग की संभावनाएँ ढूंढ रहा हूँ। हम विश्व हिन्दी सम्मेलन में शामिल होने वाले हैं। हिन्दी समुदाय भारत और विदेश में कार्यशालाओं का आयोजन करने की योजना बना रहा है। इस कार्य के लिए सोशल मीडिया चैनलों का उपयोग भी किया जाता है।

सोनी: भारत में हिंदी विकिपीडिया को बढ़ावा देने के लिए पिछले दो वर्षों में बहुत प्रयास किए गए हैं और यह विज्ञापन उनका सबसे नवीनतम कार्य है। मुझे लगता है कि भारत में हिंदी विकिपीडिया के भावी पाठकों के लिए बहुत संभावनाएं हैं।

बिशाखा: मैं वीडियो के बारे में कुछ नहीं बता देना चाहती पर इस वीडियो में दिखाया है कि किस प्रकार भारत के एक हिन्दी भाषीय परिवार को विकिपीडिया के माध्यम से कुछ नया पता लगता है। यह भावनाओं को छूने वाली प्यारी सी वीडियो है। मुझे लगता है कि इससे लोगों में हिंदी विकिपीडिया के प्रति रुचि और ध्यानाकर्षण उत्पन्न होगा!

सोनी: वीडियो भारत में रोजाना जीवन की एक छोटी सी झलक है। हम एक छोटा सा परिवार देखते है जो कि कई भारतीय परिवारों के जैसे ही है। और हम दिखाते हैं कि कैसे हमारे रोजाना जीवन में विकिपीडिया महत्त्वपूर्ण बन गया है। इस वीडियो में हम देखते हैं कि लड़की विकिपीडिया पर अपनी दादी की तस्वीर देखती है और कैसे सारा परिवार जुड़ जाता है। और हमारे सबके पास ऐसी छोटी छोटी कहानियाँ हैं कि विकिपीडिया ने हमारे जीवनों को कैसे प्रभावित किया है।

अभिनव: वीडियो यह दिखाने की कोशिश करती है कि जब विकिपीडिया हमारे रोजाना जीवन में आता है तो यह किस प्रकार हमारे व्यवहार को प्रभावित करता है (भावनात्मक रूप से भी)। वीडियो में एक साधारण एकल परिवार लिया गया है जो भारत में हर जगह मौजूद हैं। यह अद्भुत है।

स्वप्निल: भारत में ऐसी वीडियो पहली बार बनी है। सुधार की संभावनाएं बाकी है। हम और लोगों का हिन्दी विकिपीडिया से परिचय करने के लिए उत्सुक हैं।

अभिषेक: हिन्दी विकिपीडिया का विकास हो रहा है और यह चौथी सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषा है। हमें अधिक योगदानकर्ताओं की आवश्यकता है ताकि वेब पर हिन्दी का अच्छी तरह से प्रतिनिधित्व किया जा सके।

बिशाखा: इसका उपयोग करें! यह बहुत आसान है। इसका उपयोग करें! शायद आपको कुछ ऐसा मिल जाए जो आप जोड़ना चाहें? शायद आपको हिंदी सामग्री का छिपा खजाना मिल जाए, जिसके बारे में आप नहीं जानते थे?

सोनी: यदि आप हिन्दी में कुछ सीखना चाहते हैं, तो विकिपीडिया आपके लिए सबसे अच्छी जगह है। इतना ही नहीं, आप कुछ ही समय में इसे बनाने में मदद भी कर सकते हैं। आप बहुत कुछ सीखते हैं और आप आसानी से दूसरों को सीखने में सहायता कर सकते हैं। यदि आप एक हिन्दी पाठक हैं, तो आपको निश्चित रूप से हिंदी विकिपीडिया उपयोग करना चाहिए।

अभिनव: सीधा सीधा संदेश यह है कि विकिपीडिया पर लगभग हर विषय के बारे में जानकारी है और वह भी हिन्दी भाषा में। अस्पष्ट संदेश यह है कि विकिपीडिया के माध्यम से हम अंग्रेजी और अन्य भाषाओँ के बीच भाषा वर्ग विभाजन के साथ लड़ रहे हैं और यह कार्य हम चुपचाप परिणाम के आधार पर कर रहे हैं न कि एक आन्दोलन के रूप में।

सोनी: भविष्य में हमें विकिपीडिया की जागरूकता को और बढ़ाना है। समुदाय के बहुत से सदस्य बहुत मेहनत कर रहे हैं ताकि अधिक से अधिक भारतीयों को पता लगे कि विकिपीडिया क्या है और इसमें योगदान कैसे दिया जा सकता है। हमें उम्मीद है कि यह वीडियो हमारे मुख्य लक्ष्य तक पहुँचने में हमारी मदद करेगी जो है कि भारत में सभी को पता हो कि विकिपीडिया क्या है।

अभिषेक: हिन्दी समुदाय हिंदी को बढ़ावा देने के लिए मॉरिशस और भारत सरकार द्वारा आयोजित विश्व हिंदी सम्मेलन 2018 में भाग लेने की योजना बना रहा है। हम आशा करते हैं कि इससे हमें अधिक पाठकों को पाने में सहायता मिलेगी।

स्वप्निल: हम लोगों को विकिपीडिया के बारे में और दिखाना चाहते हैं। केवल इसका उपयोग करना के लिए नहीं बल्कि हिन्दी विकिपीडिया पर हमारे सामूहिक ज्ञान में अपना ज्ञान शामिल करना सिखाना चाहते हैं।

इंटरव्यू Satdeep Gill द्वारा, कम्युनिटी आउटरीच कोऑर्डिनेटर (इंडिया), प्रोग्राम मैनेजमेंट
Zack McCune, सीनियर ग्लोबल ऑडियंस मैनेजर, कम्युनिकेशन
विकिमीडिया फाउंडेशन

अनुवाद में सहायता के लिए सदस्य Shypoetess का हमारी और से धन्यवाद।

Archive notice: This is an archived post from blog.wikimedia.org, which operated under different editorial and content guidelines than Diff.

चंडीगढ़ में सियाराम का ट्रेड शो, ब्रांड ऑक्समबर्ग ने लांच की कैजुअल शर्ट की उत्कृष्ट रेंज

चंडीगढ़, 11 जून (ब्यूरो)
फैशन उद्योग में प्रतिष्ठित नाम सियाराम सिल्क मिल्स लिमिटेड के ब्रांड ऑक्समबर्ग ने चंडीगढ़ में कैजुअल शर्ट के अपने उत्कृष्ट रेंज के लांच की घोषणा करते हुए एक ट्रेड शो का आयोजन किया। शर्ट की नई रेंज को विशेष रूप से आने वाले फेस्टिव सीजन को ध्यान में रखते हुए तैयार किया गया है और इसमें सिलेक्ट करने के लिए कैजुअल वियर की एक प्रभावशाली शृंखला है।

यहां चंडीगढ़ के एक होटल में एक विशेष लांच ट्रेड शो का आयोजन किया गया। इस मौके पर ऑक्समबर्ग के ट्रेड पार्टनर जेए मार्केटिंग के सचिन जैन और नितिन जैन ने इस विशेष बुकिंग डिस्प्ले में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई। नए कलेक्शन के बारे में सियाराम सिल्क मिल्स लिमिटेड के इस ब्रांड ऑक्समबर्ग के सीनियर वाइस प्रेजिडेंट ईपी डेनियल ने कहा कि वह अपने फेस्टिव कलेक्शन के लांच के साथ मार्केट को रोमांचित करने के लिए उत्साहित हैं। उन्होंने उन उपभोक्ताओं की जरूरतों को पूरा करने पर गर्व है जो स्टाइल, शान और आराम में विश्वास करते मार्टिंगली पर प्रतिबिंब हैं, क्योंकि हमने उन्हें पेश करने के लिए कुछ बेहतरीन परिधान पेश किए हैं। वर्षों से, ऑक्समबर्ग आराम और वैल्यू फार मनी के लिए तैयार किए गए उत्पादों के साथ व्यक्ति विशेष की अभिव्यक्ति के लिए जाना जाता है। इस नई रेंज का लांच इस विश्वास का प्रतिबिंब है और कंपनी का लक्ष्य अपने ग्राहकों के लिए फैशन उद्योग से नवीनतम रुझान लाना है।

झील के प्रतिबिंब में अद्भुत दुनिया

झील के प्रतिबिंब में अद्भुत दुनिया

लवपिक पर उत्कृष्ट झील के प्रतिबिंब में अद्भुत दुनिया एचडी तस्वीरें खोजें और मुफ्त डाउनलोड करें, यह चित्र प्रारूप JPG, प्रेमपिक संख्या 500462069 है, उपयोग दृश्य प्रकृति है, आकार 3.9 MB है। इन स्टॉक फ़ोटो को बैनर डिज़ाइन, पोस्टर और अन्य टेम्प्लेट में संपादित और लागू किया जा सकता है ताकि आपके विज्ञापन का डिज़ाइन और अधिक उत्कृष्ट हो सके। व्यावसायिक उपयोग के लिए अद्भुत में प्रतिबिंब,छाया,झील आदि की 500,000 से अधिक सर्वश्रेष्ठ कॉपीराइट छवियों का मुफ्त डाउनलोड।

चिप शॉर्टेज के कारण ऑटो कंपनियों के लिए फेस्टिव सीजन लगा दांव पर

Chip Shortage: पीक फेस्टिव सीजन से पहले कार बुकिंग बैकलॉग 500,000 यूनिट के करीब, सेमीकंडक्टर की कमी से बार-बार बदलना पड़ रहा प्रोडक्शन प्लान

  • Money9 Hindi
  • Publish Date - October 5, 2021 / 05:32 PM IST

चिप शॉर्टेज के कारण ऑटो कंपनियों के लिए फेस्टिव सीजन लगा दांव पर

Chip Shortage: पीक फेस्टिव सीजन से पहले, भारत के यात्री वाहन निर्माता चिप की कमी से उत्पादन में बाधा का सामना कर रहे हैं. यात्री वाहन निर्माताओं के पास करीब 500,00 यूनिट की बुकिंग है, लेकिन वो इसकी सप्लाई नहीं कर पा रहे हैं. चिप की कमी कंपनियों को अपनी उत्पादन योजनाओं को बार-बार बदलने और की सेमीकंडक्टर की उपलब्धता के आधार पर निर्मित किए जा सकने वाले वेरिएंट को ही बनाने के लिए मजबूर कर रही है. बिजनेस स्टैंडर्ड ने इसे लेकर एक रिपोर्ट पब्लिश मार्टिंगली पर प्रतिबिंब की है.

बुकिंग संख्या मांग का सही प्रतिबिंब नहीं

मैन्युफैक्चरर्स ने कहा कि बुकिंग संख्या मांग का सही प्रतिबिंब नहीं है. लंबी प्रतीक्षा अवधि के कारण, खरीदार कई ब्रांडों की बुकिंग कर रहे हैं, और यह सब बिक्री में तब्दील नहीं होगी.

एक कार निर्माता के एक कार्यकारी ने कहा कि एक खरीदार तीन अलग-अलग ब्रांडों के मॉडल बुक कर सकता है, लेकिन अंततः वह केवल एक ही खरीदेगा.

बुकिंग की इतनी ज्यादा संख्या दुनिया के पांचवें सबसे बड़े ऑटो बाजार में डिमांड और सप्लाई के अंतर को इंगित करती है. ये स्थिति और भी ज्यादा खराब हो सकती है क्योंकि अधिक खरीदारों की नवरात्रि, दशहरा और दिवाली के शुभ दिनों से पहले वाहन बुक करने की उम्मीद है.

मारुति सुजुकी का बैकलॉग में सबसे ज्यादा योगदान

कार मार्केट लीडर मारुति सुजुकी इंडिया बैकलॉग में सबसे ज्यादा योगदान दे रही है. फर्म के एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर (सेल्स एंड मार्केटिंग) शशांक श्रीवास्तव ने कहा कि ब्रेज़ा और ऑल्टो मॉडल की करीब 210,000 यूनिट की बुकिंग है.

चिप संकट ने मारुति को सितंबर और अक्टूबर में क्रमशः 60 प्रतिशत और 40 प्रतिशत की भारी उत्पादन कटौती करने के लिए मजबूर किया.

श्रीवास्तव ने कहा, ‘आमतौर पर, मैन्युफैक्चरर श्राद्ध अवधि के दौरान चैनलों पर स्टॉक बनाते हैं. नवरात्रि और दिवाली के दौरान मजबूत खुदरा मांग को देखते हुए ऐसा किया जाता है. लेकिन इस बार, चैनलों को भरना मुश्किल हो रहा है क्योंकि आपूर्ति की तुलना में मांग कहीं अधिक है.’

हुंडई मोटर इंडिया की स्थिति थोड़ी बेहतर

हुंडई मोटर इंडिया की स्थिति थोड़ी सी बेहतर है. कोरियाई कार निर्माता के पास 100,000 ग्राहक हैं जो अपनी कारों की डिलीवरी की प्रतीक्षा कर रहे हैं.

फर्म में सेल्स और मार्केटिंग के डायरेक्टर तरुण गर्ग ने कहा कि मॉडल या वैरिएंट की मैन्युफैक्चरिंग में प्लांट में फ्लेक्सिबिलिटी की हाई डिग्री ने कंपनी को शटडाउन से बचने में मदद की है.

गर्ग के अनुसार, ज्यादा सुविधाओं से लैस कार के हाई मॉडल्स की प्राथमिकता भी शॉर्टेज को बढ़ा रहे हैं. ऐसा इसलिए क्योंकि इन मॉडल्स की मैन्युफैक्चरिंग में सेमीकंडक्टर की ज्यादा मात्रा का उपयोग होता है.

टाटा मोटर्स, महिंद्रा एंड महिंद्रा, मर्सिडीज बेंज और एमजी मोटर्स भी इसी तरह की स्थिति का सामना कर रही है. इन सभी फर्मों में मॉडलों की प्रतीक्षा अवधि तीन महीने से लेकर 12 महीने की है.

‘एक स्टेशन, एक उत्पाद’ के तहत पटना स्टेशन पर लगे मधुबनी पेंटिंग्स के स्टॉल, प्लेटफॉर्म पर मिलेंगी ये सभी चीजें

पटना रेलवे स्टेशन पर मधुबनी पेंटिंग और इससे जुड़े सामानों की प्रदर्शनी और बिक्री 25 मार्च, 2022 से 15 दिनों के लिए चलाया जाएगा.

सुमन कुमार चौधरी | Edited By: सुनील चौरसिया

Updated on: Mar 25, 2022 | 1:11 PM

बजट 2022-23 में ‘एक स्टेशन, एक उत्पाद’ से संबंधित की गई घोषणा के अनुरूप स्थानीय कारीगरों, शिल्पकारों, कुम्हारों, बुनकरों एवं जन-जातियों के बेहतर जीवन और कल्याण के लिए रेलवे स्टेशनों (Railway Station) के प्लेटफॉर्म पर स्थानीय उत्पादों की मार्केटिंग के लिए निर्धारित स्थान पर ‘स्टॉल‘ उपलब्ध कराया जा रहा है. इसी कड़ी में आत्मनिर्भर भारत (Atmanirbhar Bharat) अभियान के तहत स्थानीय हस्तशिल्प और उद्योगों को बढ़ावा देने की पहल के तहत स्थानीय उत्पादों जैसे कि खाद्य पदार्थ, हस्त शिल्प उत्पाद, कलाकृतियां, हथकरघा आदि क्षेत्र विशेष के अनुसार रेलवे स्टेशन के प्लेटफॉर्म पर प्रदर्शनी और बिक्री किया जाएगा. यह स्थानीय लोगों के लिए स्वरोजगार का एक नया अवसर भी पैदा करेगा. इसका उद्देश्य रेलवे परिसर का उपयोग कर स्थानीय उत्पादों की सप्लाई चेन को बढ़ावा देना है.

पूर्व मध्य रेल ने पटना रेलवे स्टेशन का किया चयन

इसी क्रम में, रेलवे बोर्ड द्वारा पायलट प्रोजेक्ट के तहत सभी क्षेत्रीय रेलों के एक या दो स्टेशनों पर इसे शुरू करने का निर्णय लिया गया है. पूर्व मध्य रेल पर ‘एक स्टेशन, एक उत्पाद‘ योजना को शुरू करने के लिए पायलट प्रोजेक्ट के रूप में पटना जंक्शन का चयन किया गया है. पटना जंक्शन पर मधुबनी पेंटिंग और इसके उत्पाद की प्रदर्शनी और बिक्री केंद्र 25 मार्च, 2022 से 15 दिनों के लिए चलाया जाएगा.

रेलवे स्टेशन पर मिलेंगे ये सभी उत्पाद

‘एक स्टेशन, एक उत्पाद‘ के अन्तर्गत पटना जंक्शन के प्लेटफार्म नंबप 1 पर मधुबनी पेंटिंग और इससे संबंधित उत्पादों जैसे हैंड पेंटेड सिल्क और कॉटन की साड़ियां, दुपट्टा, फाइल फोल्डर, बैग, पर्स, मोबाईल कवर, पेन होल्डर, वॉल पेंटिंग, हैंगिंग लैंप, टेबल लैंप, मास्क, मार्टिंगली पर प्रतिबिंब कुर्ता, जैकेट, बनियान, की-रिंग होल्डर, टी ग्लास, नोट पैड बॉक्स, नोट बुक, बेड कवर सहित अन्य चीजों के प्रदर्शनी और बिक्री के लिए एक संस्था को स्टॉल लगाने के लिए स्थान उपलब्ध कराया जा रहा है, जहां आने-जाने वाले यात्रियों की पहुंच आसान हो. रेलवे स्टेशन पर इसका स्टॉल लगाए जाने से यहां के हस्तशिल्पियों का उत्साहवर्धन तो होगा ही इसके साथ ही उत्पादों को एक बेहतर बाजार भी मिलेगा.

दुनियाभर के यात्रियों को आकर्षित कर रही है मधुबनी पेंटिंग

विश्व प्रसिद्ध पारंपरिक कला, मधुबनी शैली की चित्रकारी ‘मधुबनी पेंटिंग‘ स्थानीय लोगों के साथ-साथ दुनिया भर के यात्रियों को आकर्षित कर रही है. इसके पहले भी पूर्व मध्य रेल द्वारा ट्रेनों और स्टेशनों पर मधुबनी पेंटिंग का प्रयोग कर इस कला को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाई गई है. पूर्व मध्य रेल के लिए यह गौरव की बात है कि मधुबनी पेंटिंग से युक्त सामग्रियों को एक लोकप्रिय कला शैली के एक आदर्श प्रतिबिंब के रूप में देखा जा रहा है, जिसका सीधा लाभ स्थानीय कलाकारों को नई पहचान एवं उनके उत्पादों को नए बाजार उपलब्ध कराने में मील का पत्थर साबित होगा.

रेटिंग: 4.51
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 89
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *