फंडामेंटल एनालिसिस

उचित एसेट के साथ ट्रेडिंग

उचित एसेट के साथ ट्रेडिंग

The Sandbox

The Sandbox के बारे में आज मार्केट में क्या माहौल है?

The Sandbox के बारे में आपको आज कैसा लग रहा है? परिणाम देखने के लिए वोट दें

सामान्य जानकारी

सोशल चैनल

कॉन्ट्रैक्ट एड्रेस

परिचय The Sandbox

The Sandbox कीमत से जुड़ा विवरण

इस बारे में और जानें :- The Sandbox

आप The Sandbox कहाँ खरीद सकते हैं?

Crypto.com ऐप पर खरीदें

क्रेडिट कार्ड या बैंक ट्रांसफ़र के ज़रिए मिनटों में क्रिप्टो खरीदने के लिए साइन अप करके अकाउंट बनाएँ।

Crypto.com Exchange (Pro) पर ट्रेड करें

हमारे एक्सचेंज में क्रिप्टो जमा करें और डीप लिक्विडिटी और कम फ़ीस के साथ ट्रेड करें।

काम के रिसोर्स

अगर आप क्रिप्टो की दुनिया में नए हैं, तो Bitcoin, Ethereum और अन्य क्रिप्टोकरेंसी खरीदना शुरू करने के बारे में जानने के लिए Crypto.com यूनिवर्सिटी और हमारे हेल्प सेंटर का इस्तेमाल करें।

अपने पसंद की फ़िएट करेंसी में The Sandbox की मौजूदा कीमत लाइव देखने उचित एसेट के साथ ट्रेडिंग के लिए, आप इस पेज के ऊपरी दाएँ कोने में मौजूद Crypto.com के कन्वर्टर फ़ीचर का इस्तेमाल कर सकते हैं।

The Sandbox का प्राइस पेज Crypto.com प्राइस इंडेक्सका हिस्सा है जो टॉप क्रिप्टोकरेंसी के लिए प्राइस हिस्ट्री, प्राइस टिकर, मार्केट कैप और लाइव चार्ट को फ़ीचर करता है।

इंडियन बैंक म्यूचुअल फंड

इंडियन बैंक द्वारा रु. 25 लाख की राशि के साथ इंडियन बैंक म्यूच्युअल फंड (आईबीएमएफ़) का गठन एक ट्रस्ट के रूप में 1990 के दौरान किया गया था । 1990 -1994 के दौरान आईबीएमएफ की योजनाओं को ट्रस्ट द्वारा संचालित किया जाता था । सेबी (एमएफ़) विनियम,1993 का अनुपालन करते हुए, इंडियन बैंक की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी के रूप में 5 करोड़ रुपये की पूंजी के साथ मेसर्स इंडफ़ंड मैनेजमेंट लिमिटेड (आईएफ़एमएल) का उचित एसेट के साथ ट्रेडिंग गठन एक आस्ति प्रबंधन कंपनी के रूप में जनवरी 1994 के दौरान किया गया । जनवरी 1994 से आईबीएमएफ़ की योजनाओं का प्रबंधन आईएफ़एमएल द्वारा किया जाता है । आईबीएमएफ़ ने 12 क्लोज़-एंडेड योजनाएँ लॉन्च की और 627.10 करोड़ रुपये जुटाएँ । परि‍पक्वता की तारीख पर 12 योजनाओं में से 9 योजनाओं को रिडीम किया गया था । तीन योजनाएँ, जैसे इंड नवरत्न, इंड शेल्टर एवं इंड टैक्स शील्ड योजना को नवंबर 2001 के दौरान टाटा म्यूच्युअल फंड में स्थानांतरित किया गया । बॉम्बे के माननीय उच्च न्यायालय द्वारा अनुमोदित समामेलन योजना के परिणामस्वरूप आईएफ़एमएल को 07.09.2012 को इंडियन बैंक के साथ विलय कर दिया गया एवं यह ट्रस्ट (आईबीएमएफ़) इंडियन बैंक, कॉर्पोरेट कार्यालय, चेन्नै – 600014.

इंडियन बैंक की निम्नलिखित योजनाओं को रिडीम किया गया है और इकाई प्रमाणपत्र सहित पूर्ण रिडेम्प्शन एप्लिकेशन जमा करके रिडेम्प्शन वैल्यू प्राप्त किया जा सकता है ।

उचित एसेट के साथ ट्रेडिंग

बुक्स ऑफ ओरिजिनल एंट्री का क्या अर्थ है?

बुक्स ऑफ ओरिजिनल एंट्…

बिज़नेस में इन्वेंट्री नियंत्रण या स्टॉक कंट्रोल के क्‍या मायने हैं?

अर्जित व्यय या Accrued Expenses के बारे में विस्‍तार से जानें

लेखांकन देयताएं या अकाउंटिंग लायबिलिटीज़ क्या हैं?

खराब लोन ख़र्च: परिभाषा, उदाहरण और अकाउंटिंग ट्रीटमेंट

गतिविधि-आधारित लागत: परिभाषा प्रक्रिया और उदाहरण

प्राप्य या रिसीवेबल बिल्‍स क्‍या हैं? विस्‍तार से जानें

प्राप्य या रिसीवेबल बिल्‍स क्‍या हैं? विस्‍तार से जानें

मटेरियल बिल: परिभाषा, उदाहरण, प्रारूप और प्रकार

Petty कैश (फुटकर रोकड़ राशि) क्‍या है और यह कैसे काम करता है?

अकाउंटिंग अनुपात - अर्थ, प्रकार, सूत्र

बुक्स ऑफ ओरिजिनल एंट्री का क्या अर्थ है?

बिज़नेस में इन्वेंट्री नियंत्रण या स्टॉक कंट्रोल के क्‍या मायने है…

अर्जित व्यय या Accrued Expenses के बारे में विस्‍तार से जानें

लेखांकन देयताएं या अकाउंटिंग लायबिलिटीज़ क्या हैं?

खराब लोन ख़र्च: परिभाषा, उदाहरण और अकाउंटिंग ट्रीटमेंट

गतिविधि-आधारित लागत: परिभाषा प्रक्रिया और उदाहरण

प्राप्य या रिसीवेबल बिल्‍स क्‍या हैं? विस्‍तार से जानें

मटेरियल बिल: परिभाषा, उदाहरण, प्रारूप और प्रकार

Petty कैश (फुटकर रोकड़ राशि) क्‍या है और यह कैसे काम करता है?

अकाउंटिंग अनुपात - अर्थ, प्रकार, सूत्र

अस्वीकरण :
इस वेबसाइट पर दी की गई जानकारी, प्रोडक्ट और सर्विसेज़ बिना किसी वारंटी या प्रतिनिधित्व, व्यक्त या निहित के "जैसा है" और "जैसा उपलब्ध है" के आधार पर दी जाती हैं। Khatabook ब्लॉग विशुद्ध रूप से वित्तीय प्रोडक्ट और सर्विसेज़ की शैक्षिक चर्चा के लिए हैं। Khatabook यह गारंटी नहीं देता है कि सर्विस आपकी आवश्यकताओं को पूरा करेगी, या यह निर्बाध, समय पर और सुरक्षित होगी, और यह कि त्रुटियां, यदि कोई हों, को ठीक किया जाएगा। यहां उपलब्ध सभी सामग्री और जानकारी केवल सामान्य सूचना उद्देश्यों के लिए है। कोई भी कानूनी, वित्तीय या व्यावसायिक निर्णय लेने के लिए जानकारी पर भरोसा करने से पहले किसी पेशेवर से सलाह लें। इस उचित एसेट के साथ ट्रेडिंग जानकारी का सख्ती से अपने जोखिम पर उपयोग करें। वेबसाइट पर मौजूद किसी भी गलत, गलत या अधूरी जानकारी के लिए Khatabook जिम्मेदार नहीं होगा। यह सुनिश्चित करने के हमारे प्रयासों के बावजूद कि इस वेबसाइट पर उचित एसेट के साथ ट्रेडिंग उचित एसेट के साथ ट्रेडिंग निहित जानकारी अद्यतन और मान्य है, Khatabook किसी भी उद्देश्य के लिए वेबसाइट की जानकारी, प्रोडक्ट, सर्विसेज़ या संबंधित ग्राफिक्स की पूर्णता, विश्वसनीयता, सटीकता, संगतता या उपलब्धता की गारंटी नहीं देता है।यदि वेबसाइट अस्थायी रूप से अनुपलब्ध है, तो Khatabook किसी भी तकनीकी समस्या या इसके नियंत्रण से परे क्षति और इस वेबसाइट तक आपके उपयोग या पहुंच के परिणामस्वरूप होने वाली किसी भी हानि या क्षति के लिए उत्तरदायी नहीं होगा।

We'd love to hear from you

We are always available to address the needs of our users.
+91-9606800800

सिल्वर ईटीएफ: निवेश से पहले किन बातों का रखें ध्यान

सोने की तर्ज पर जब से सिल्वर (चांदी) ईटीएफ की शुरुआत भारत में हुई है, इसमें निवेश को लेकर लोगों में उत्सुकता बढ़ी है। जो लोग निवेश के नजरिये से फिजिकल चांदी (चांदी की सिल्ली, सिक्का और गहने) खरीदते थे, वे अब पेपर फॉर्म यानी सिल्वर ईटीएफ की तरफ रुख करने लगे हैं। नवंबर 2021 में सेबी ने इस नए संपत्ति वर्ग में निवेश को हरी झंडी दी थी। तब से लेकर इस वर्ष जुलाई के अंत तक म्युचुअल फंड कंपनियों ने सिल्वर ईटीएफ के जरिये कुल 1,400 करोड़ रुपये जुटाए हैं।

अब तक आदित्य बिड़ला सन लाइफ म्युचुअल फंड, आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल म्युचुअल फंड और निप्पॉन इंडिया म्युचुअल फंड ने सिल्वर ईटीएफ शुरू किया है। इसके अलावा इनमें से हरेक एसेट मैनेजमेंट कंपनी के पास सिल्वर फंड ऑफ फंड्स भी है, जो अपने-अपने ईटीएफ में निवेश करते हैं। इनके अलावा डीएसपी म्युचुअल फंड और एचडीएफसी म्युचुअल फंड के सिल्वर ईटीएफ के न्यू फंड ऑफर (एनएफओ) 26 अगस्त को बंद हुए हैं। एडलवाइस का गोल्ड -सिल्वर एफओएफ (गोल्ड और सिल्वर में 50-50 के अनुपात में) फिलहाल निवेशकों के लिए खुले हैं।

कुल मिलाकर कहें तो जब से सिल्वर ईटीएफ शुरू करने की अनुमति मिली है, असेट मैनेजमेंट कंपनियों में इसे लाने की होड़ मची है। जानकारों के अनुसार सेबी के कदम ने म्युचुअल फंड उचित एसेट के साथ ट्रेडिंग कंपनियों के लिए सिल्वर ईटीएफ का रास्ता खोल दिया है क्योंकि बहुत से निवेशक चांदी को महंगाई के खिलाफ हेजिंग के तौर पर इस्तेमाल करते रहे हैं। ऐसे में इससे उन्हें फिजिकल फॉर्म में चांदी रखने के बजाय पेपर फॉर्म में इसे रखने का विकल्प मिला है।

ईटीएफ में निवेश का एक और बड़ा फायदा यह है कि इसमें चांदी के रखरखाव और सुरक्षा की कोई चिंता नहीं है। सिल्वर ईटीएफ के जरिए निवेशकों को सोने के बाद पारदर्शिता के साथ एक जिंस के रूप में चांदी में निवेश करना काफी आसान हो जाएगा।

हाल के समय में चांदी का प्रदर्शन कमजोर रहा है यानी कीमतें कमजोर हुई है। पिछले एक महीने में चांदी की कीमत तकरीबन 10 फीसदी, तीन महीने में 16 फीसदी, और एक साल में 25 फीसदी कम हुई है। इस वजह से भी एएमसी सिल्वर ईटीएफ और एफओएफ ला रहे हैं क्योंकि गिरावट का दौर किसी भी संपत्ति वर्ग में निवेश के लिए उचित समय होता है।

बढ़ती औद्योगिक मांग की वजह से भी इस संपत्ति वर्ग के लिए निवेशक और म्युचुअल फंड कंपनियां उत्साहित हैं। इलेक्ट्रिक वाहन, सोलर और 5जी जैसे नए दौर के उद्योगों में चांदी की भारी मांग है। सोने और चांदी में निवेश से पोर्टफोलियो में विविधता की जरूरत भी पूरी हो जाती है।

लेकिन सिल्वर ईटीएफ में निवेश से पहले कुछ बातों को उचित एसेट के साथ ट्रेडिंग जानना जरूरी है:

गोल्ड ईटीएफ की तरह सिल्वर ईटीएफ में भी निवेशकों को प्रति यूनिट (एक ग्राम) निवेश का मौका मिलता है। उदाहरण के तौर पर अगर चांदी की कीमत 55 हजार रुपये प्रति किलो है तो एक यूनिट एक ग्राम की कीमत यानी 55 रुपये के बराबर होगी। कुछ फंड हाउस एनएफओ के दौरान कम से कम (न्यूनतम) 100 रुपए से निवेश की सुविधा भी देते हैं। अधिकतम निवेश की कोई सीमा नहीं है। ध्यान रहे सिल्वर ईटीएफ में चांदी केवल अंतर्निहित परिसंपत्ति (अंडरलाइंग एसेट) है। इन्हें भुनाने पर चांदी नहीं मिलेगी बल्कि उसकी कीमत रुपये में मिल जाएगी। लंदन बुलियन मार्केट एसोसिएशन यानी एलबीएमए पर चांदी की दैनिक कीमतों के आधार पर सिल्वर ईटीएफ के शुद्ध परिसंपत्ति मूल्य (एनएवी) में बदलाव होता है। ईटीएफ का एनएवी असेट मैनेजमेंट कंपनी की वेबसाइट पर डाला जाता है। एनएवी की कीमत म्युचुअल फंड की तरह बाजार बंद होने के बाद निर्धारित की जाती है।

एएमसी अपने फंड की 95 फीसदी रकम चांदी और इससे जुड़े उत्पादों में निवेश करते हैं। ये उत्पाद एलबीएमए की ओर से प्रमाणित होने चाहिए।

सिल्वर ईटीएफ को आप स्टॉक एक्सचेंज पर नकद ट्रेडिंग के लिए निर्धारित समय के दौरान कभी भी खरीद या बेच सकते हैं। इसके अलावा जब फंड हाउस एनएफओ लाते हैं तब भी आप सिल्वर ईटीएफ में निवेश कर सकते हैं। एनएफओ के बाद फंड की यूनिट शेयर बाजार पर सूचीबद्ध होती हैं। फिर इन्हें वहां से खरीदा और बेचा जा सकता है। सिल्वर ईटीएफ के लिए डीमैट और ट्रेडिंग खाता होना जरूरी है। लेकिन सिल्वर के फंड ऑफ फंड्स (एफओएफ) के लिए आम म्युचुअल फंड स्कीम की तरह डीमैट अकाउंट जरूरी नहीं है।

खर्च

सिल्वर ईटीएफ संभालने उचित एसेट के साथ ट्रेडिंग उचित एसेट के साथ ट्रेडिंग के एवज में फंड हाउस निवेशक से शुल्क वसूलते हैं, जिसे टोटल एक्सपेंस रेश्यो (टीईआर) कहते हैं। इसके अतिरिक्त जब भी आप यूनिट खरीदते या बेचते हैं तो ब्रोकरेज शुल्क देना पड़ता है। सिल्वर फंड (एफओएफ) को एक निश्चित अवधि से पहले भुनाने पर एक्जिट लोड भी चुकाना होता है। सेबी के दिशानिर्देशों के अनुसार टोटल एक्सपेंस रेश्यो दैनिक एनएवी का अधिकतम 1 फीसदी हो सकता है। सिल्वर ईटीएफ के चयन में आपको टीईआर पर भी ध्यान देना चाहिए। अगर किसी फंड हाउस का टीईआर कम है तो उसे प्राथमिकता दें।

तरलता

सिल्वर ईटीएफ को स्टॉक एक्सचेंज पर कभी भी खरीदा बेचा जा सकता है। मतलब तरलता की समस्या यहां नहीं है।

ट्रैकिंग एरर

सिल्वर ईटीएफ में तय बेंचमार्क यानी चांदी की कीमत के आधार पर निवेश होता है। इस बेंचमार्क के प्रतिफल और फंड के प्रतिफल के बीच के अंतर को ही ट्रैकिंग एरर माना जाता है। फंड हाउस को इस ट्रैकिंग एरर की जानकारी निवेशकों को देनी होती है। ट्रैकिंग एरर जितना कम हो उतना बेहतर। ट्रैकिंग एरर दिखाता है फंड उसमें निहित संपत्ति के मुकाबले कितना फीका प्रदर्शन कर रहा है। सेबी के दिशानिर्देशों के अनुसार एनएवी और बेंचमार्क चांदी की कीमतों के बीच ट्रैकिंग एरर 2 फीसदी से ज्यादा नहीं होने चाहिए। सिल्वर ईटीएफ में निवेश से पहले इस ट्रैकिंग एरर का भी ख्याल रखें।

कराधान

सिल्वर ईटीएफ और सिल्वर फंड पर कर डेट फंड की तरह लगता है। मतलब अगर खरीदने के बाद 36 महीने से पहले उसे भुना लेते हैं तो जिस वर्ष आप भुनाते हैं उस वर्ष प्रतिफल आपकी वार्षिक आय में जुड़ जाएगा और आपको लागू स्लैब के हिसाब से कर चुकाना पड़ेगा। अगर 36 महीने बाद भुनाते हैं तो इंडेक्सेशन के फायदे के साथ 20 फीसदी (उपकर और अधिभार मिलाकर 20.8 फीसदी) दीर्घावधि पूंजीगत लाभ कर चुकाना पड़ेगा।

रेटिंग: 4.89
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 619
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *