फंडामेंटल एनालिसिस

विकल्प कारोबार

विकल्प कारोबार
खबर मीडिया

विकल्प कारोबार

Welcome to Food Funda ChatBot! I can help you with your queries regarding Food Fortification, Edible Oil, Rice Fortification, Wheat Fortification etc. You can type or choose an option to talk to me.

Food Fortification Edible Oil Fortification Milk Fortification Rice Fortification Wheat Flour Fortification Double Fortified Salt Fortified Products

खाद्य सुरक्षा प्रदर्शन बोर्ड

एफएसएस विनियम के अनुसार, खाद्य परिसरों में एफएसएसएआई लाइसेंस/पंजीकरण संख्‍या प्रदर्शित करना अनिवार्य है। सामान्‍यतया, एफएसएसएआई लाइसेंस संख्‍या उपभोक्‍ताओं को नजर नहीं आता है। इस प्रकार, उपभोक्‍ताओं की समग्र अवगम्‍यता में परिवर्तन लाने के लिए और खाद्य सुरक्षा को सुदृढ़ करने के लिए, एफएसएसएआई ने विभिन्‍न खाद्य कारोबारों के लिए खाद्य सुरक्षा बोर्ड (एफएसडीबी) की शुरुआत की है। एफएसएसएआई लाइसेंस / पंजीकरण संख्‍या के प्रदर्शन करने की विद्यमान अनिवार्य अपेक्षा के अतिरिक्‍त, एफबीओ परिसरों में एफबीओ के लिए इन खाद्य सुरक्षा प्रदर्शन बोर्ड प्रदर्शित करना भी अनिवार्य होगा।

खाद्य सुरक्षा प्रदर्शन बोर्ड सूचनाप्रद बोर्ड हैं जिनके द्वारा प्राथमिक रुप से एफबीओ द्वारा अपने प्रतिष्‍ठानों में खाद्य सुरक्षा और स्‍वच्‍छता पद्धतियों का प्रदर्शन किया जाता है। एफएसडीबी उपभोक्‍ताओं द्वारा आसानी से पहचान करने के लिए खाद्य कारोबार के विभिन्‍न प्रकारों के लिए रंग संकेत दिए गए होते हैं। कारोबार के प्रकार के अनुसार रंग संकेत इस प्रकार हैं:

एफएसडीबी के तीन महत्‍वपूर्ण तत्‍व हैं :

• एफबीओ का एफएसएसएआई पंजीकरण/लाइसेंस संख्‍या का प्रदर्शन, जिसे उपभोक्‍ता एफएसएसएआई की वैबसाइट से सत्‍यापित कर सकता है। .
• खाद्य सुरक्षा और स्‍वच्‍छता अपेक्षाएं- उपभोक्‍ताओं, खाद्य प्रहस्‍तकों और विनियामक कर्मचारियों को इन महत्‍वपूर्ण अपेक्षाओं से अवगत कराएं, इस प्रकार खाद्य सुरक्षा के संबंध में 360 डिग्री आश्‍वासन मिलेगा।
• प्रभावशाली उपभोक्‍ता फीडबैक प्रणाली जिससे उपभोक्‍ताओं को व्‍हाट्सएप, एसएमएस अथवा एफएसएसएआई एप जैसे विभिन्‍न विकल्‍पों के माध्‍यम से फीड बैक देने के विकल्‍प उपलब्‍ध हैं।.

मुजफ्फरनगर का कारोबारी 94 करोड़ की CGST चोरी में गिरफ्तार, भेजा गया जेल

केन्द्रीय खुफिया विभाग की टीम ने मुजफ्फरनगर के कारोबारी को CGST की चोरी के मामले में गिरफ्तार कर जेल भेजा है. फर्जी ई-बिल के जरिये विकल्प जैन नाम के इस कारोबारी ने 94 करोड़ रूपये से ज्यादा का केन्द्रीय जीएसटी चोरी किया है.

By: एबीपी न्यूज़ | Updated at : 12 Oct 2018 04:26 PM (IST)

मेरठ: केन्द्रीय खुफिया विभाग की टीम ने मुजफ्फरनगर के कारोबारी को CGST की चोरी के मामले में गिरफ्तार कर जेल भेजा है. फर्जी ई-बिल के जरिये विकल्प जैन नाम के इस कारोबारी ने 94 करोड़ रूपये से ज्यादा का केन्द्रीय जीएसटी चोरी किया है. सेन्ट्रल जीएसटी और खुफिया विभाग की टीम कई महीनों से इस चोरी की जांच कर रही थी. जेल भेजा गया विकल्प जैन मुजफ्फरनगर नगरपालिका के वार्ड संख्या-34 से सभासद भी है.

सूत्रों के मुताबिक मुजफ्फरनगर के पटेलनगर निवासी विकल्प जैन का खुद का ट्रेडिंग का कारोबार है. शहर की कई फैक्ट्रियों से निकलने वाले माल विकल्प कारोबार का लेखाजोखा भी विकल्प के पास रहता है. खुद को ट्रेडर दिखाकर विकल्प जैन लंबे समय से माल को गंतव्य तक भेजने का काम करता था और इसके लिए वह फर्जी कंपनियों के फर्जी ई-बिल बनाता था. जीएसटी लागू होने से पहले विकल्प जैन व्यापार कर से जुड़े अभिलेख भी बनाया करता था. सेन्ट्रल जीएसटी के अफसरों की टीम विकल्प जैन पर लंबे वक्त से नजर रखे हुए थी.

टीम के अफसरों ने पाया कि लंबे वक्त से फर्जी ई-बिल के जरिये टैक्स चोरी की जा रही विकल्प कारोबार है. मामला बड़ा होने की वजह से केस की जांच केन्द्रीय खुफिया विभाग को सौंपी गयी. विभाग के जांच अफसरों ने विकल्प जैन के ट्रेडिंग से अभिलेखों की जांच की और करोड़ो रूपये की सीजीएसटी की चोरी पकड़ी. विकल्प जैन को अपनी सफाई में तथ्य रखने का मौका भी दिया गया.

लेकिन जब जैन अभिलेखों के मुताबिक वह खुद को साबित नहीं कर पाया तो विभाग ने विकल्प जैन के खिलाफ केस दर्ज करा कर उसे गिरफ्तार करा दिया. केन्द्रीय खुफिया विभाग की जांच में अब तक 94 करोड़ रूपये की सीजीएसटी की चोरी होने की पुष्टि हुई है.

News Reels

गिरफ्तारी के बाद विकल्प जैन को मेरठ में स्पेशल सीजेएम की अदालत में पेश किया गया. सुनवाई के बाद कोर्ट ने विकल्प जैन को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है. लोक अभियोजन अधिकारी लक्ष्य कुमार ने बताया कि अब तक 98 करोड़ रूपये के इनवायस मिले है जो फर्जी कंपनियों के नाम से काटे गये है. 94 करोड़ रूपये की जीएसटी चोरी की पुष्टि की जा चुकी है.

वेस्ट यूपी में फर्जी फर्मों का बड़ा खेल

केन्द्रीय और राज्य जीएसटी के अफसरों ने पश्चिमी उत्तर-प्रदेश के जिलों में फर्जी फर्मो के इनबायस के जरिये टैक्स चोरी की सूचनाओं पर जब काम करना शुरू किया तो बड़ी सफलता हाथ लगी है. वाणिज्य कर विभाग की विशेष अनुसंधान शाखा ने अब तक 50 से ज्यादा फर्जी कंपनियां पकड़ी हैं और इन कंपनियों के जरिये 400 करोड़ रूपये से ज्यादा कर चोरी का फर्जीवाड़ा सामने आ चुका है. अकेले मुजफ्फरनगर में अफसरों को केवल 2 फर्मो में डेढ़ सौ करोड़ से ज्यादा की टैक्स चोरी मिली है और लंबे समय से इनकी जांच जारी है. इन फर्मो में माल की खरीद और बिक्री में बड़ा अंतर सामने आया है.

Published at : 12 Oct 2018 03:20 PM (IST) Tags: muzaffarnagar uttar Pradesh विकल्प कारोबार हिंदी समाचार, ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें abp News पर। सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट एबीपी न्यूज़ पर पढ़ें बॉलीवुड, खेल जगत, कोरोना Vaccine से जुड़ी ख़बरें। For more related stories, follow: News in Hindi

Tata ग्रुप देगा 45 हजार लोगों को नौकरियां, iPhone पार्ट्स के प्लांट में मिलेंगे मौके

चीन मे कोविड प्रतिबंधों की वजह से उत्पादन पर असर पड़ रहा है जिसे देखते हुए आईफोन भारत में उत्पादन बढ़ा रहा है. इसी वजह से घरेलू कंपनियां भी विस्तार की योजना पर काम कर रही हैं.

Tata ग्रुप देगा 45 हजार लोगों को नौकरियां, iPhone पार्ट्स के प्लांट में मिलेंगे मौके

TV9 Bharatvarsh | Edited By: सौरभ शर्मा

Updated on: Nov 01, 2022 | 6:34 PM

टाटा ग्रुप ने एप्पल से ज्यादा से ज्यादा कारोबार हासिल करने की कोशिशें शुरू कर दी हैं. सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार टाटा ग्रुप दक्षिण भारत में स्थित अपनी इलेक्ट्रॉनिक पार्ट्स का निर्माण करने वाली फैक्टरी में कर्मचारियों की क्षमता बढ़ाने जा रहा है. इस प्लांट में आईफोन के पार्ट्स बनते हैं. दरअसल भारत सरकार के द्वारा उठाए गए कदमों और चीन में बारबार लग रहे लॉकडाउन की वजह से दुनिया भर की स्मार्टफोन कंपनियां भारत में चीन का विकल्प तलाश रही हैं. वहीं भारतीय कंपनियां चीन का विकल्प बनने की लगातार कोशिश कर रहीं हैं और इस प्रयास में है कि चीन के कारोबार का कुछ हिस्सा भारत लाया जा सके. टाटा ग्रुप की मौजूदा योजना इसी कोशिशों का हिस्सा है.

क्या है टाटा ग्रुप की योजना

टाटा ग्रुप तमिलनाडु के होसुर में स्थित अपने प्लांट में नई प्रोडक्शन लाइन शुरू करने की तैयारी कर रही है. सूत्रों के हवाले से इंडियन एक्सप्रेस ने खबर दी है कि कंपनी अगले डेढ़ साल से 2 साल के बीच 45 हजार कर्मचारियों की भर्ती करेगी, ये सभी महिला कर्मचारी होंगी. इस प्लांट में आईफोन के लिए केस का निर्माण किया जाता है जिसमें डिवाइस सुरक्षित रहता है. फिलहाल यहां 10 हजार कर्मचारी काम कर रहे हैं. इनमें से अधिकांश महिला कर्मचारी हैं. फिलहाल भारत में आईफोन के कुल कारोबार का बेहद छोटा हिस्सा है. हालांकि भारत लगातार कोशिश कर रहा वो धीरे धीरे ही सही चीन का विकल्प बन कर उभरे और आईफोन का बड़ा कारोबार हासिल कर सके.

ये भी पढ़ें

बढ़ती महंगाई का असर अब गोल्ड पर भी, नहीं मिल रहे सोने के खरीदार

बढ़ती महंगाई का असर अब गोल्ड पर भी, नहीं मिल रहे सोने के खरीदार

LPG से लेकर GST तक, आज से बदल गए ये 6 बड़े नियम, जानिए पूरी डिटेल्स

LPG से लेकर GST तक, आज से बदल गए ये 6 बड़े नियम, जानिए पूरी डिटेल्स

छठ के बाद नहीं होगी घर से लौटने की चिंता, इन रुट्स पर रेलवे चला रहा है स्पेशल ट्रेन

छठ के बाद नहीं होगी घर से विकल्प कारोबार लौटने की चिंता, इन रुट्स पर रेलवे चला रहा है स्पेशल ट्रेन

EPS पेंशन स्कीम में बड़ी राहत, कर्मचारी समय से पहले निकाल सकेंगे पैसा

EPS पेंशन स्कीम में बड़ी राहत, कर्मचारी समय से पहले निकाल सकेंगे पैसा

एक और प्लांट लगाने की भी योजना

वहीं टाटा ग्रुप विस्ट्रॉन के साथ एक प्लांट लगाने की भी योजना पर बात कर रहा है. जहां आईफोन को असेंबल किया जा सके. फिलहाल फॉक्सकॉन, विस्ट्रॉन और पेगाट्रॉन जो आईफोन के लिए पार्ट्स का निर्माण करते हैं, भारत में उत्पादन बढ़ा रहे हैं. दरअसल पश्चिमी देशों में फेस्टिव सीजन की शुरुआत से पहले चीन मे कोविड को लेकर सख्त प्रतिबंधों से आईफोन के उत्पादन पर असर पड़ रहा है इससे निपटने के लिए ये कंपनियां भारत में उत्पादन बढ़ाने पर फोकस कर रही हैं. इन्हीं संकेतों को देखते हुए भारतीय कंपनियां भी विस्तार पर जोर दे रही हैं.

निवेश करने के लिए बेहतर विकल्प कौन सा है: ETF या इंडेक्स फंड्स?

इंडेक्स म्यूचुअल फंड्स और ETF निष्क्रिय निवेश के साधन हैं जो एक अंतर्निहित बेंचमार्क इंडेक्स में निवेश करते हैं। इंडेक्स फंड्स म्यूचुअल फंड्स की तरह काम करते हैं जबकि ETF में शेयरों की तरह कारोबार होता है। इसलिए समान निष्क्रिय निवेश रणनीति के लिए एक के मुकाबले दूसरे को चुनना आपकी निवेश वरीयता पर निर्भर करता है।

ETF इंट्राडे ट्रेड, लिमिट या स्टॉप ऑर्डर्स और शॉर्ट-सेलिंग के लिए उपयुक्त हैं लेकिन अगर आप उन लोगों में से नहीं हैं जो बाज़ार की चाल को भांपना पसंद करते हैं, तो इंडेक्स फंड्स आपके लिए हैं। यद्यपि अक्सर होने वाली ट्रांज़ैक्शन्स कमीशन से जुड़े खर्च को बढ़ा सकती हैं और आपके रिटर्न को घटा सकती हैं, उनमें इंडेक्स फंड्स की तुलना में कम एक्सपेंस रेशो भी होती है। लेकिन इंडेक्स फंड्स आपकी वित्तीय आवश्यकताओं के लिए उपयुक्त विभिन्न विकल्प प्रदान करते हैं, जैसे लंबी-अवधि के लक्ष्यों के लिए ग्रोथ ऑप्शन बनाम नियमित आमदनी के लिए डिविडेंड ऑप्शन। आप इंडेक्स फंड में SIP के माध्यम से थोड़ी-थोड़ी रकम के साथ नियमित रूप से निवेश कर सकते हैं। ETF के विपरीत, इंडेक्स फंड्स में निवेश करने के लिए आपको डीमैट अकाउंट की ज़रूरत भी नहीं है।

यद्यपि दोनों निष्क्रिय निवेश के माध्यम से व्यापक बाज़ार तक पहुँच पेश करते हैं, सुविधा के लिए उनके बीच परिचालन-संबंधी अंतर निर्णायक कारक बन सकते हैं। जैसे जब आप मुम्बई से गोवा यात्रा करना चाहते हैं, तो आप ट्रेन या रातभर चलने वाली बस चुन सकते हैं। यद्यपि दोनों आपके अंतिम उद्देश्य को पूरा करते हैं, पर विकल्प कारोबार सुविधा के लिए एक मोड के मुकाबले दूसरे को चुनना पूरी तरह से व्यक्तिगत पसंद है।

कैसे पीएसटीएन कारोबार को प्रभावित करेगा

खबर मीडिया

बीटी ने हाल ही में घोषणा की कि वह 2025 तक आईएसडीएन और पीएसटीएन नेटवर्क को बंद करने की योजना बना रहा विकल्प कारोबार है और सभी ग्राहकों को एक आईपी कोर नेटवर्क में माइग्रेट करेगा जो अंततः सभी विरासत नेटवर्क / प्लेटफार्मों को बदल देगा। तो इसका वास्तव में क्या मतलब है, आपके संगठन पर इसका क्या प्रभाव हो सकता है, और आपको तैयारी करने के लिए क्या करना चाहिए?

सबसे पहले PSTN और ISDN के बीच अंतर करना महत्वपूर्ण है।

PSTN का मतलब सार्वजनिक स्विचड टेलीफोन नेटवर्क है और इसे कभी-कभी प्लेन ओल्ड टेलीफोन सर्विस (POTS) के रूप में भी जाना जाता है। यह सर्किट स्विचेड कॉपर लाइनों पर कॉल करने और प्राप्त करने के लिए पारंपरिक एनालॉग-आधारित बुनियादी ढांचा है। आपके प्रदाता द्वारा तारों / नेटवर्क का स्वामित्व और संचालन किया जाता है।

ISDN का अर्थ है इंटीग्रेटेड सर्विसेज डिजिटल नेटवर्क। यह नेटवर्क डिजिटल लाइनों जैसे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग और डेटा ट्रांसफर पर वॉइस और डेटा सेवाओं की अनुमति देता है। आईएसडीएन डिजिटल सेवाएं प्रति लाइन कई चैनल प्रदान कर सकती हैं, इस प्रकार विकल्प कारोबार एक साथ फोन कॉल सक्षम कर सकती हैं।

ISDN, PSTN की तुलना में अधिक आधुनिक है, फिर भी दोनों को अब विकल्प के रूप में पुराना और अवर माना जाता है, इस तथ्य से प्रबलित कि दोनों को अगले सात या इतने वर्षों में बंद कर दिया जाएगा।

तो क्या विकल्प है?

पारंपरिक पीएसटीएन और आईएसडीएन के लिए सबसे लोकप्रिय और आम विकल्प वॉयस ओवर इंटरनेट प्रोटोकॉल (वीओआईपी) है जो डेटा के 'पैकेट' में बदलकर एक इंटरनेट कनेक्शन पर आवाज यातायात को प्रसारित करता है। कई व्यवसाय पहले से ही वीओआईपी समाधान का उपयोग कर रहे हैं।

आपको अब क्या करना चाहिए?

यदि आप वर्तमान में PSTN / ISDN सिस्टम पर हैं और आपका अनुबंध अगले कुछ वर्षों में नवीनीकृत होने वाला है, तो यह निश्चित रूप से वीओआईपी पर स्विच करने पर विचार करने के लायक है। ऐसा करने के कई लाभों में लागत-बचत, गतिशीलता में वृद्धि, वीडियो-कॉन्फ्रेंसिंग और आसान मापनीयता शामिल हैं।

क्या विकल्प कारोबार झेलना है मन में।

इंटरनेट की गति

वीओआईपी के लिए आगे बढ़ने में आपको यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता होगी कि आपका कार्यालय इंटरनेट कनेक्शन इसे संभाल सकता है (बैंडविड्थ के संदर्भ में)। आपके द्वारा आवश्यक बैंडविड्थ आपकी व्यक्तिगत आवश्यकताओं और सेवा की गुणवत्ता (QoS) प्राथमिकताओं पर निर्भर करता है। यदि आपके पास पर्याप्त बैंडविड्थ नहीं है, तो आपके कॉल ऑडियो गुणवत्ता और विश्वसनीयता से समझौता किया जा सकता है।

फोन प्रणाली / हैंडसेट

अधिकांश आधुनिक कार्यालय फोन सिस्टम और हैंडसेट पहले से ही वीओआईपी का समर्थन करेंगे, लेकिन अगर आपका नहीं है, तो आप अपने मौजूदा टेलीफोन सिस्टम को आईपी उत्पाद के साथ बदल सकते हैं; ऑन-प्रिमाइसेस, आईपी-सक्षम पीबीएक्स के लिए विकल्प चुनें या इसके संबद्ध लचीलेपन और लागत बचत के साथ क्लाउड-आधारित पीबीएक्स समाधान के लिए जाएं।

प्रवास कब करें?

आईएसडीएन को अब अनिवार्य रूप से एक विरासत मंच के रूप में देखा जाता है, इसलिए इसमें निवेश की संभावना कम है। इसके परिणामस्वरूप मौजूदा नेटवर्क के मानक में कमी हो सकती है, और 2025 से पहले अच्छी तरह से बुनियादी ढांचे का समर्थन विकल्प कारोबार कर सकते हैं। इसका मतलब यह है कि बाद में होने के बजाय वीओआईपी के लिए आगे बढ़ने के लिए अतिरिक्त प्रोत्साहन है।

रेटिंग: 4.72
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 90
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *