शेयर मार्केट पर पुस्तकें

Trading सुर्खियों पर

Trading सुर्खियों पर

Trading सुर्खियों पर

सोमवार यानी कल के कारोबार में भारतीय बाजार हरे निशान में बंद हुए थे। निफ्टी 14900 के ऊपर बंद हुआ था जबकि सेसेंक्स में करीब 300 अंकों की रैली देखने को मिली थी। अलग-अलग सेक्टरों पर नजर डालें तो कल के कारोबार में metals, public sector, capital goods, healthcare & power स्टॉक में खरीदारी देखने को मिली थी। वहीं आईटी में मुनाफावसूली देखने को मिली थी।

MP में आज कहां क्या हुआ, 10 तस्वीरों में देखिए: इंदौर में फर्जी शेयर ट्रेडिंग ऐप से करोड़ों की ठगी, ग्वालियर में कारीगरी छोड़ स्मैक बेचने लगा शख्स

(1) मध्यप्रदेश के थांदला (झाबुआ) की रहने वाली MBBS स्टूडेंट रिचा धानक युद्धग्रस्त यूक्रेन में फंसी हुई हैं। उन्होंने दैनिक भास्कर से बात करते हुए आपबीती बताई। उन्होंने कहा, ​मैं रूस-यूक्रेन बॉर्डर के बैटल ग्राउंड से 35 किलोमीटर दूर खार्किव शहर में हूं। युद्ध के धमाकों से बुरी तरह डरी हुई हूं। भारत लौटने के लिए खूब मदद मांगी, लेकिन नहीं मिली। अब अंडर ग्राउंड मेट्रो स्टेशन में छिपी हुई हूं। पढ़ें पूरी खबर

(2) इंदौर में पत्नी की दिल दहलाने वाली करतूत

इंदौर में एक महिला ने पति को गला घोंटकर मार डाला। फिर उसके शव को काटकर दफना दिया। उसका सिर, धड़ और हाथ-पैर अलग-अलग जगह ठिकाने लगाए। इसका खुलासा तब हुआ जब 19 साल के बेटे ने नशे में अपने दोस्तों को इस बारे में बताया। उसने कहा कि मम्मी ने पापा की हत्या कर बाथरूम में गाड़ दिया है। पुलिस ने महिला को हिरासत में ले लिया है। पढ़ें पूरी खबर

(3) मुरैना में महिला डकैत की गैंग ने किसान को उठाया

चंबल की महिला डकैत वाली गैंग ने मुरैना के एक किसान का अपहरण कर लिया। हाथ-पैर बांधकर मुंह में कपड़ा ठूंस दिया। फिर उसके साथ मारपीट की। सूचना के बाद पहुंची पुलिस ने डकैतों पर फायरिंग की तो जवाब में डकैतों ने भी फायर किए। इसके बाद डकैत किसान को सरसों के खेत में छोड़कर भाग गए। पढ़ें पूरी खबर

(4) उमरिया में बोरवेल में फंसे मासूम को नहीं बचाया जा सका

उमरिया में बोरवेल में गिरे 4 साल के गौरव को नहीं बचाया जा सका। उसकी बोरवेल में ही मौत हो गई। मासूम को करीब 16 घंटे के रेस्क्यू ऑपरेशन के बाद बाहर निकाला गया। बताया जा रहा है कि बच्चा गुरुवार सुबह करीब 11 बजे गिरा था। बच्चा सिर के बल गिरा था। पढ़ें पूरी खबर

(5) इंदौर में फर्जी शेयर ट्रेडिंग ऐप से करोड़ों की ठगी

इंदौर में दो युवक फर्जी शेयर ट्रेडिंग के नाम पर लोगों से करोड़ों रुपए की धोखाधड़ी कर रहे थे। फेक वेबसाइट और डाटा एनालिटिक्स की साइट बनाकर ग्राहकों को ठगने का काम चल रहा था। कंपनी ने ग्रेविटी मॉल में दबिश देकर एल्गो ट्रेडिंग कंपनी का भंडाफोड़ किया। यहां बाहर चॉइस ब्रोकिंग कंपनी का बोर्ड लगा हुआ था। पढ़ें पूरी खबर

(6) ग्वालियर में स्मैक की चमक में भूल गया कारीगरी

ग्वालियर में मकान बनाकर लोगों के सपने बुनने वाला एक कारीगर स्मैक की चमक में फंसकर स्मैक तस्कर बन गया। ऐसे ही एक स्मैक तस्कर को पुलिस ने गुरुवार रात को कालू बाबा की बगिया से गिरफ्तार किया है। स्मैक तस्कर के पास से 12.50 लाख रुपए की स्मैक बरामद हुई है।

ग्वालियर में आरोपी से स्मैक जब्त हुई।

(7) शिवपुरी के जिला अस्पताल में बाइक बनी स्ट्रेचर

शिवपुरी के जिला अस्पताल में एक मरीज को दिखाने उसके परिजन मोटरसाइकिल से पहुंचे। जहां मरीज को बाइक पर बैठाकर ही डॉक्टर के पास ले जाया गया। परिजनों का कहना था कि मरीज चलने में असमर्थ था। उन्हें अस्पताल में न ही स्ट्रेचर मिला न ही वार्ड बॉय। इसके बाद मरीज को मोटरसाइकिल पर ही बैठा कर डॉक्टर के चैम्बर तक ले गए। पढ़ें पूरी खबर

शिवपुरी में बुजुर्ग को बाइक पर अस्पताल के अंदर ले जाया गया।

(8) इंदौर में हौज में मिली महिला की लाश

इंदौर के छोटी खजरानी में रहने वाली एक बुजुर्ग महिला की हादसे में मौत हो गई। वह घर में बने पानी के हौज में औंधे मुंह पड़ी मिली। बताया जा रहा है कि महिला की बहू अपने बेटे को छोड़ने स्कूल गई थी। वापस आई तो सास घर में नहीं दिखी। लेकिन शाम को जब हौज में देखा तो सास Trading सुर्खियों पर अंदर पड़ी थी। इस मामले में पुलिस ने मर्ग कायम कर मामला जांच में लिया है। पढ़ें पूरी खबर

(9) MP में मौसम में फिर बदलाव

पाकिस्तान से आई हवाओं के कारण मध्यप्रदेश में 24 घंटे में ही तापमान में नरमी आ गई। कई इलाकों में रात का पारा 4 डिग्री तक लुढ़क गया है। बीते 24 घंटों के दौरान कुछ इलाकों में हल्की बारिश भी हुई। मौसम वैज्ञानिक वेद प्रकाश सिंह ने बताया कि अगले 10 दिन तक सुबह के समय हल्की सर्दी बनी रहेगी। दिन में गर्मी बढ़ेगी। अब बारिश की संभावना नहीं है। पढ़ें पूरी खबर

(10) MP में सरकारी अस्पतालों में घटेंगे कोविड के लिए रिजर्व बेड

कोरोना की तीसरी लहर खत्म होने के बाद अब आम मरीजों को अस्पतालों में आसानी से इलाज मिल सकेगा। प्रदेश भर के सरकारी अस्पतालों में कोरोना मरीजों के लिए रिजर्व किए गए बिस्तरों को अब Trading सुर्खियों पर घटाकर आम मरीजों के लिए तैयार किया जाएगा। पढ़ें पूरी खबर

शेयर बाजार से आय उत्पन्न करने के ६ तरीके

शेयर बाजार

1. शेयर बाजार विश्लेषण

एक व्यापारी को व्यापारिक दिन की शुरुआत बाजारों Trading सुर्खियों पर के शुरू होने से कम से कम एक घंटे पहले से ही शुरू करना चाहिए।

उसे इस समय का उपयोग किसी भी नवीनतम मैक्रो या सूक्ष्म समाचार प्रवाह, अंतरराष्ट्रीय बाजारों, राजनीतिक घटनाओं, कच्चे तेल और मुद्रा आदि के विश्लेषण के लिए करना चाहिए, समाचार और विचारों को पढ़ना चाहिए जो उस दिन किसी विशेष स्टॉक या सेक्टर पर प्रभाव डाल सकते हैं।

यह उसे एक उचित विचार प्रदान करता है जहां शेयर बाजार में प्रमुख क्या हो सकता है और वह किन क्षेत्रों और कंपनियों पर अपना दांव लगा Trading सुर्खियों पर सकता है।

2. पूर्व शेयर बाजार का विश्लेषण

व्यापारियों को बाजार की ताकत और भावना का अनुमान लगाने के लिए प्री-मार्केट सत्र पर कड़ी नजर रखनी चाहिए। पूर्व शेयर बाजार सत्र का विश्लेषण करना चाहिए:

(i) निफ्टी या सेंसेक्स इंडेक्स की तेजी या मंदी की भावना का निर्धारण करने के लिए,

(ii) अलग-अलग शेयरों के गैप अप और गैप डाउन (विशेषकर शीर्ष 5 गैपर) के अंतराल का निर्धारण करना और

(iii) किसी भी स्टॉक (सबसे सक्रिय रूप से कारोबार) की पूर्व बाजार मात्रा डेटा की ताकत का निर्धारण करना।

आम तौर पर यह देखा जाता है कि मजबूत वॉल्यूम के साथ गैप अप वाले शेयरों की भारी मांग होती है और इसी तरह मजबूत वॉल्यूम के साथ गैप डाउन वाले शेयरों में दिन के दौरान मंदी का भाव रहने की संभावना होती है।

गैप डाउन या गैप अप वाले शेयरों के स्टॉक में ऊपर या नीचे की गति का प्रदर्शन कैसे होगा उस पर ध्यान देना चाहिए

बाजार विशेषज्ञों द्वारा शेयर बाजार अब हुआ आसान कोर्स के साथ शेयर बाजार के बारे में जानें

पूर्व-बाजार का उचित विश्लेषण व्यापारियों को विशिष्ट स्टॉक चुनने में मदद कर सकता है और समय से आगे उनकी व्यापारिक रणनीतियों को कारगर बनाने में सही सिद्ध हो सकता है।

3. समाचार का प्रभाव

दिन के व्यापारियों को हमेशा ऐसे शेयरों में व्यापार करना चाहिए जो रोज़ गतिशील हैं और चाल दिखा रहे हैं। इस तरह के स्टॉक को खोजने का एक तरीका खबर में आ रहे नामों को देखना है।

समाचार का स्टॉक पर सीधा प्रभाव पड़ता है, इस प्रकार यह स्टॉक की कीमत को भी प्रभावित करता है।

स्टॉक, की कमाई की रिपोर्ट, ऑर्डर डेटा, अपग्रेड / डाउनग्रेड, उत्पाद घोषणा, एफडीए घोषणाएं, आर्थिक डेटा रिलीज, राजनीतिक मुद्दे और अन्य मैक्रो और कंपनी से संबंधित समाचारों के आधार पर किसी भी दिशा में बड़े इंट्राडे चाल की दिशा बन सकती हैं।

gdp

4. ट्रेडिंग वॉल्यूम

स्टॉक की मात्रा मापी जाती है कि किसी निश्चित समय अवधि में इसे कितनी बार खरीदा और बेचा गया है, आमतौर पर एक ही दिन में। उच्च मात्रा के साथ एक स्टॉक, एक उच्च रूझान का सुझाव देता है- जो या तो सकारात्मक या नकारात्मक हो सकता है।

स्टॉक की मात्रा में वृद्धि अक्सर मूल्य वृद्धि का एक संकेत है, जो या तो ऊपर या नीचे की ओर हो सकता है।

उच्च मात्रा वाले स्टॉक बढ़े हुए व्यापार और महत्वपूर्ण मूल्य प्रदान करते हैं जो कि सफल दिन के कारोबार के लिए आवश्यक है।

रिलायंस शेयर बाजार

5. उच्च उपलब्धता और उतारचढ़ाव

उच्च उपलब्धता वाले स्टॉक व्यापारियों को दिन में कई बार व्यापार करने और स्टॉक में छोटे से छोटे मूल्य में बदलाव का फायदा उठाने का अवसर प्रदान करते हैं।

इस तरह के स्टॉक मूल्य में अच्छे बदलाव और अधिक उतार-चढ़ाव प्रदान करते हैं जिससे व्यापारियों को आसानी से अच्छी कीमत पर स्टॉक में प्रवेश करने और बाहर निकलने का अवसर मिल जाता है।

उतार-चढ़ाव मापती है कि किसी शेयर की कीमत किसी निश्चित समय में कितनी अधिक ऊपर या नीचे होगी। सबसे अधिक ऊपर नीचे वाले स्टॉक में ट्रेडिंग करना व्यापार का एक कुशल तरीका है क्योंकि वे अधिक लाभ कमाने की क्षमता प्रदान करते हैं।

जितना अधिक मूल्य में उतार-चढ़ाव होता है, व्यापारियों के लिए इंट्राडे व्यापार से लाभ उठाने का अवसर उतना ही अधिक होता है। ये सभी उच्च उतार-चढ़ाव वाले स्टॉक को दिन के कारोबार के लिए अधिक बेहतर बनाते हैं बनिस्पत उनके जिसमे उतर चढ़ाव मामूली होता है।

हालांकि, व्यापारियों को Trading सुर्खियों पर मजबूत उतार-चढ़ाव वाले शेयरों के साथ उच्च मात्रा वाले शेयरों को भी देखना चाहिए, जो आसान प्रवेश और निकास के लिए आवश्यक है।

6. 52- सप्ताह के उच्च या निम्न स्तर वाले स्टॉक

52-सप्ताह का उच्च / निम्न मूल्य वे उच्चतम और निम्नतम मूल्य है, जिस पर पिछले वर्ष के दौरान किसी शेयर ने कारोबार किया है।

व्यापारियों को 52 सप्ताह के उच्च / निम्न मूल्य के शेयरों की तलाश करनी चाहिए, क्योंकि ऐसे शेयरों में उच्च दिलचस्पी होती है और इसलिए दैनिक व्यापार के लिए अधिक गति दिखाई देती है।

आमतौर पर, यह देखा जाता है कि यदि शेयर की कीमत 52 सप्ताह के क्षेत्र (या तो ऊपर या नीचे) से टूटती है, तो मूल्य में चाल उसी दिशा में जारी रहने की उम्मीद है।

वे विपरीत ट्रेडों को भी रख सकते हैं, जहां 52 सप्ताह के उच्च स्तर को प्रतिरोध स्तर के रूप में और 52 सप्ताह के निचले स्तर को समर्थन क्षेत्र के रूप में माना जाना चाहिए।

इस प्रकार, दिन के व्यापारी 52-सप्ताह के उच्च / निम्न क्षेत्र में घूमने वाले शेयरों का चयन कर सकते हैं और लाभदायक ट्रेडों को उत्पन्न करने के लिए उपरोक्त रणनीतियों को लागू कर सकते हैं।

विश्व बैंक के सैमुअल पी फ्राइबर्गर के एक NBER के पेपर से पता चला कि मीडिया की भावना, उभरते और उन्नत दोनों बाजारों में दैनिक स्टॉक रिटर्न का एक महत्वपूर्ण भविष्यवक्ता है।

nse chart

इसलिए, दिन के व्यापारियों के लिए समय-समय पर समाचारों की सुर्खियों की समीक्षा करना महत्वपूर्ण है।

साथ ही उन्हें यह समझने और निर्धारित करने में भी सक्षम होना चाहिए कि समाचार किसी विशेष स्टॉक को किस हद तक प्रभावित करेगा

इसलिए, समाचार और उनकी समीक्षा पर नज़र रखते हुए, एक व्यापारी को संभावित दिन के व्यापार की एक सूची खोजने में मदद करता है।

शेयर बाजार निष्कर्ष

ट्रेडिंग में Trading सुर्खियों पर पहला कदम यह पता लगाना है कि क्या व्यापार करना है और दूसरा बाजार में सही समय पर रणनीति लागू करना है और अधिकतम रिटर्न उत्पन्न करने के लिए रणनीतियों को काम में लाना है।

व्यापारियों को जल्दी शुरू करना चाहिए। उन्हें बाजार में शुरुआत के समय ही, क्षेत्रों और स्टॉक का गहन विश्लेषण करना चाहिए।

उन्हें हमेशा ऐसा स्टॉक चुनना चाहिए जो उनकी वित्तीय स्थिति और लक्ष्यों के अनुकूल हो, जैसे कि उसके पास कितनी पूंजी है, वह किस प्रकार का निवेश करना चाहता है और उसकी जोखिम सहने की ताकत आदि। शेयर बाजार के विभिन्न स्कीम्स में जानकारी के लिए आप StockEdge कि सहायता ले सकते है|

ट्रेडिंग अधिक उद्देश्यपूर्ण और कम चेतना-संबंधी होनी चाहिए। व्यापारियों को किसी भी स्टॉक से भावनात्मक रूप से जुड़ना नहीं चाहिए, चाहे सकारात्मक या नकारात्मक, बल्कि उन्हें केवल लाभ और हानि पर ध्यान देना चाहिए और हमेशा नुकसान को रोकने का पालन करना चाहिए।

व्यापारियों को चल रहे बाजार की प्रवृत्ति की पहचान करने के लिए पर्याप्त रूप से विवेकपूर्ण होना चाहिए और नुकसान की संभावना को कम करने के लिए आमतौर पर एक अपट्रेंड में मजबूत शेयरों और एक कमजोर स्टॉक के विपरीत मजबूत शेयरों को प्राथमिकता देना चाहिए।

जब बाजार किसी भी स्पष्ट दिशा को स्थापित करने में विफल रहता है तो ट्रेडिंग से बचना ही हमेशा फायदेमंद होता है ।

बाड़ाबंदी दुर्भाग्यपूर्ण, इसे रोकने के लिए बने कानून

नागौर. नागौर जिले के भाजपा व आरएलपी विधायकों ने कांग्रेस द्वारा की गई विधायकों की बाड़ाबंदी को दुर्भाग्यपूर्ण घटना बताया है। उनका कहना है कि प्रदेश में सरकार जनता का कोई काम नहीं कर पा रही है, इसलिए ध्यान भटकाने व मीडिया की सुर्खियां बटोरने के लिए ऐसा किया जा रहा है, जबकि भाजपा के पास 75 विधायक ही है और राज्यसभा उम्मीदवार को जीताने के लिए 27 विधायकों और चाहिए, ऐसे में भाजपा की ओर से कोई प्रयास नहीं किए जा रहे हैं। वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस विधायकों का कहना है कि उनकी कोई बाड़ाबंदी नहीं की गई है, कांग्रेस पूरी तरह एकजुट है और उनके ही उम्मीदवार जीतेंगे।
राज्यसभा चुनाव को लेकर प्रदेश में चल रहे राजनीतिक घटनाक्रम को लेकर जिले के विधायकों से बात की तो कांग्रेस के कुछ विधायकों ने प्रतिक्रिया देने से मना कर दिया। े

राजनीतिक उठापटक के बीच भाजपा पर बड़ा आरोप- 'कांग्रेस विधायकों को दिये गए 25 करोड़'

केवल सुर्खियों में आने के लिए कर रहे
अशोक जी के जो खिंचातान चल रही है, उससे ध्यान भटकाने व सुर्खियों में आने के लिए बाड़ाबंदी की की जा रही है। जनता के काम तो कर नहीं पा रही हैं, इसलिए अखबारों में न्यूज बनाने के लिए यह सब किया जा रहा है। 25 करोड़ देने की बात की जा रही है, पता नहीं कौन दे रहा है। भाजपा के तो 75 ही विधायक हैं, ऐसे में उम्मीदवार को जीताने के लिए 27 विधायक और चाहिए, इसलिए हमारी ओर से कोई प्रयास नहीं किए जा रहे हैं।
- मोहनराम चौधरी, विधायक, नागौर

कांग्रेस विधायक ही असंतुष्ट हैं
जब घर में फूट होती है तो मुखिया को इस बात का डर रहता है कि भीतरघात हो सकती है। राजस्थान में सबको पता है कि कांग्रेस के विधायक संतुष्ट नहीं हैं, इनके आपसी मतभेद और उठापटक के कारण ही विधायकों की बाड़ाबंदी की गई है। बाकी मुझे ज्यादा जानकारी नहीं है।
- रूपाराम मुरावतिया, विधायक, मकराना

लोकतंत्र के लिए दुर्भाग्यपूर्ण घटना
विधायकों की बाड़ाबंदी दुर्भाग्यपूर्ण घटना है, जिस व्यक्ति को लाखों लोग चुनते हैं, उस पर उसकी पार्टी ही विश्वास नहीं करती Trading सुर्खियों पर है तो इससे बड़ी शर्म की बात नहीं हो सकती। देश में विधायकों की खरीद-फरोख्त कांग्रेस की ही देन है। हम नैतिक रूप से इसके खिलाफ हैं। मैं तो कहता हूं चुनाव राष्ट्रपति का हो या उपराष्ट्रपति और राज्य सभा का, सबके लिए ऐसा कानून बनना चाहिए कि जो क्रॉस वॉटिंग करता है, उसका विधायकी का अधिकार छीन लिया जाए।
- नारायण बेनीवाल, विधायक, खींवसर

विधायक स्वतंत्र हैं
विधायकों की बाड़ाबंदी जैसा कुछ नहीं है, केवल ऑब्जर्वर से मिलने के सभी विधायकों को एक जगह एकत्र किया गया है। सभी विधायक स्वतंत्र हैं और आराम से रह रहे हैं। कांग्रेस के विधायक पार्टी नियमों के तहत ही एकजुट हुए हैं।
- महेंद्र चौधरी, उप मुख्य सचेतक व नावां विधायक

हमारे दोनों उम्मीदवार जीतेंगे
बाड़ाबंदी की बात में सच्चाई नहीं है। कांग्रेस एकजुट है। कांग्रेस राज्यसभा की सीटें जीतेंगी। हमारे दो उम्मीदवार हैं और दोनों जीतेंगे। कांग्रेस संगठित है। Trading सुर्खियों पर सब एक साथ हैं, कोई दिक्कत नहीं है।
- चेतन डूडी, विधायक, डीडवाना

कांग्रेस के विधायक एकजुट होने के लिए एकत्र हुए हैं। हमें कोई बाड़ाबंदी में नहीं लाया गया है। कांग्रेस राज्यसभा चुनाव की दोनों सीटें पूर्ण बहुमत से जीतेगी। भाजपा केवल अफवाह फैला रही है।
- रामनिवास गावडिय़ा, विधायक, परबतसर

राजस्थान में विधायकों की खरीद-फरोख्त से जुड़े ऑडियो वायरल पर फैसला आज, जानें पूरा मामला

जनता से रिश्ता वेबडेस्क। राजस्थान में विधायकों की खरीद-फऱोख्त का कथित मामला एक बार फिर सुर्खियों में है। अतिरिक्त सत्र न्यायालय क्रम-3 महानगर प्रथम में एमएलए की कथित खरीद-फरोख्त से जुड़े ऑडियो वायरल करने और इस संबंध में बयानबाजी करने के मामले में बहस पूरी हो गई है। अदालत ओमप्रकाश सोलंकी की इस रिवीजन अर्जी पर आज फैसला देगी। मामले में सीएम अशोक गहलोत और महेश जोशी के अलावा सीएम के ओएसडी लोकेश शर्मा, तत्कालीन सीएस, गृह सचिव, डीजीपी, एडीजी सहित एसओजी के थानाधिकारी रविंद्र कुमार को पक्षकार बनाया गया है।

अर्जी में परिवादी ने आॅडियो को वायरल करने औऱ अशोक गहलोत की ओर से बयानबाजी करने को लेकर निचला अदालत कोर्ट में परिवाद दायर किया था। लेकिन कोर्ट ने पूर्वाग्रह के चलते नवंबर 2021 में उसको खारिज कर दिया था। इसलिए निचली कोर्ट का आदेश रद्द कर मामले की जांच के लिए संबंधित पुलिस थाने को भिजवाया जाए। वहीं राज्य सरकार का ओर से कहा गया कि प्रकरण निचली अदालत में सुनवाई के लिए योग्य नहीं है। निचली अदालत के परिवाद रद्द करने के आदेश को आपराधिक याचिका के जरिए हाईकोर्ट में चुनौती दी जानी चाहिए। उल्लेखनीय है कि 5 मार्च 2022 को आॅडियो वायरल मामले में अतिरिक्त सत्र न्यायालय क्रम-3 महानगर प्रथम ने सीएम गहलोत को तलब किया था। कोर्ट ने 16 मार्च तक जवाब मांगा था।

निचली अदालत में पेश परिवाद में कहा गया था कि 17 जुलाई 2020 को सीएम को ओएसडी लोकेश शर्मा की ओर से एक ऑडियो क्लिप को वायरल करने का समाचार प्रकाशित हुआ था। लोकेश शर्मा लोक सेवक की श्रेणी में आते हैं। ऐसे में यह आईपीसी, ओएस एक्ट और टेलीग्राम एक्ट की अवहेलना है। इसके अलावा इस ऑडियो को बतौर सबूत मानकर महेश जोशी ने एसओजी में आईपीसी की धारा 120 बी और 124ए के तहत मामला दर्ज करवाया था। परिवाद में कहा गया कि इस ऑडियो क्लिप के बाद राजनीतिक अस्थिरता उत्पन्न हो गई था। सीएम अशोक गहलोत ने विधायकों की खरीद-फरोख्त के भी आरोप लगाए थे। परिवाद में कहा गया कि प्रदेश में राजद्रोह और संवेदनशील मामलों से जुड़ी एफआईआर को सार्वजनिक करने पर प्रतिबंध है। इसके बावजूद अशोक गहलोत ने एसओजी के मुखिया अशोक राठौड़ से मिलीभगत कर जांच अपने उद्देश्य के लिए चार्जशीट से पहले ही सार्वजनिक कर दी।

रेटिंग: 4.92
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 77
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *