क्रिप्टोकरेंसी के फायदे

कैसे इन्वेस्ट कर सकते हैं?

कैसे इन्वेस्ट कर सकते हैं?
Account linked Mobile Number Change Process: घर बैठे बदल सकते हैं अपने बैंक खाते से जुड़ा मोबाइल नंबर, स्टेप वाइज समझें पूरी प्रॉसेस

मैं म्यूचुअल फंड्स में सीधे निवेश कैसे कर सकता हूँ?

अगर आपका KYC पूरा हो चुका है तो आप म्यूचुअल फंड में सीधे ऑफलाइन या ऑनलाइन निवेश कर सकते हैं। अगर आप ऑनलाइन ट्रांज़ैक्शन करने में असहज महसूस करते हैं, तो आप नज़दीकी शाखा में जाकर फंड में निवेश कर सकते हैं।

ऑनलाइन म्यूचुअल फंड की स्कीमों में सीधे निवेश करने का सबसे आसान तरीका है और आपको कमीशन भी नहीं देना पड़ता। आप फंड की वेबसाइट या उसके RTA की साइट या फिर फिनटेक प्लेटफॉर्म से ऑनलाइन निवेश कर सकते हैं। फंड की वेबसाइट पर सीधे निवेश करने पर आपको कई लॉगिन मैनेज करने पड़ते हैं।

डायरेक्ट प्लान में निवेश करने का मतलब है कि आप फिनांशियल प्लान बनाने, अपने गोल के लिए सबसे सही फंड्स को चुनने, अपने पोर्टफोलियो को नियमित तौर पर मैनेज करने और ज़रूरत पड़ने पर उसमें फेरबदल करने की ज़िम्मेदारी लेते हैं। हर किसी को म्यूचुअल फंड में सही फंड चुनना और पोर्टफोलियो को मैनेज करना नहीं आता है। इसलिए डायरेक्ट प्लान उन निवेशकों के लिए है जो इसे आसानी से कर सकते हैं। अन्यथा, म्युचुअल फंड के बारे में कम जानकार लोगों को डिस्ट्रीब्यूटर द्वारा निवेश करने की सलाह दी जाती है।

म्युचुअल फंड्स में इन्वेस्ट कैसे करे – आसान हिन्दी में बेहतरीन आर्टिकल्स की एक शुरुआती गाइड

म्युचुअल फंड इन्वेस्टमेंट हर एक इन्वेस्टर के बीच काफ़ी लोकप्रिय हैं । जिसका कारण कैसे इन्वेस्ट कर सकते हैं? है इससे मिलने वाले फायदे। इसके कईं फायदों में से कुछ सबसे महत्वपूर्ण फ़ायदे नीचे दिए हैं, जो इन्वेस्टर्स को अपनी ओर खींचते है और जिसकी वजह से –

  • इन्वेस्टर्स कितनी भी राशि के साथ शुरुआत कर सकते हैं ( 500 जितना कम भी )
  • इन्वेस्टर्स, अलग-अलग स्टॉक्स और डेट,गोल्ड जैसे इंस्ट्रूमेंट्स में इन्वेस्ट कर सकते हैं
  • हर महीने ऑटोमेटेड इन्वेस्मेंट्स शुरू कर सकते हैं (SIP)
  • डीमैट अकाउंट खोले बिना भी इन्वेस्ट कर सकते हैं

शुरुआती इन्वेस्टर्स के लिए इस म्युचुअल फंड इन्वेस्टमेंट गाइड में हमने कुछ आर्टिकल्स को आपके लिए चुना है। जो म्युचुअल फंड को समझने में और कैसे इन्वेस्ट करना शुरू करें, इसमें आपकी मदद करेंगे। हम सुझाव देंगे कि आप इस पेज को बुकमार्क कर लें ताकि आप इन आर्टिकल्स को अपनी सुविधा के अनुसार कभी भी कैसे इन्वेस्ट कर सकते हैं? पढ़ सकें।

इन्वेस्टमेंट के लिए बेहतर विकल्प है Mutual Funds, केवल 100 रुपए से शुरू कर सकते हैं सुरक्षित निवेश

Mutual Funds Investment: एकमुश्त के अलावा आप इसमें मंथली किस्तों के रूप में SIP के माध्यम से इन्वेस्ट भी कर सकते हैं. Mutual Funds में भी SIP में लोगों का सबसे ज्यादा इंट्रस्टेड हैं.

Mutual Funds Investment: अगर आप इन्वेस्टमेंट की प्लानिंग कर रहे हैं और बेहतर स्कीम की तलाश में हैं तो आपके लिए बेस्ट है म्यूचुअल फंड का निवेश. यहां निवेशकों को कम रिस्क के साथ ज्यादा रिटर्न मिलता है. एकमुश्त के अलावा आप इसमें मंथली किस्तों के रूप में SIP के माध्यम से इन्वेस्ट भी कर सकते हैं. Mutual Funds में भी SIP में लोगों का सबसे ज्यादा इंट्रस्टेड हैं. SIP के माध्यम से आप छोटी-छोटी अमाउंट से निवेश की शुरुआत कर सकते हैं.

टारगेट सेट कर करें निवेश

अगर आप मंथली 10000 रुपए इन्वेस्ट करना चाहते हैं, वो भी 20 साल तक के लिए तो आप 12% प्रति वर्ष के रेट के हिसाब से 91 लाख रुपए फंड बना सकते हैं. वहीं अगर आप अपनी इन्वेस्टमेंट अमाउंट बढ़ाकर 15000 रुपए मंथली कर देते हैं, तो आपको 20 साल के बाद 1.36 करोड़ रुपए बढ़कर मिलेगा.

Mutual Fund की सबसे खास बात ये है कि आप महज 100 रुपये की छोटी रकम से भी इन्वेस्टमेंट शुरू कर सकते हैं. 100 रुपये मंथली SIP निवेश किया जा सकता है. म्यूचुअल फंड में लंबे समय के लिए इन्वेस्ट किया जाए तो, इसमें कम्‍पाउंडिंग यानी चक्रवृद्धि ब्याज का अच्छा फायदा मिलता है.

कैसे करें निवेश

Mutual Funds में इन्वेस्ट करना काफी आसान है. सबसे पहली बात, अगर आप पहली बार इन्वेस्ट कर रहे हैं, तो आपको KYC पूरा करना होगा. KYC का प्रोसेस कम्पलीट करने के लिए आप किसी भी डिस्ट्रिब्यूटर या एक्सपर्ट के पास जा सकते हैं. वहीं आप इसे ऑनलाइन भी निपटा सकते हैं. KYC पूरा करने के बाद ही आप किसी फंड में इन्वेस्ट कर सकते हैं.

KYC प्रोसेस कम्पलीट करने के बाद आप किसी Mutual Fund Distributor, रजिस्टर्ज निवेश सलाहकार, Stock Market Broker या फिर बैंक की मदद से इन्वेस्ट करने पर जोर दे सकते हैं. वहीं अगर आप खुदसे इन्वेस्ट करना चाहते हैं, तो आप फंड हाउस की वेबसाइट पर जाकर कर सकते हैं.

5. कोई नहीं जान सकता मार्केट की टाइमिंग

स्टॉक मार्केट अस्थिर है, इसमें उतार—चढ़ाव लगा रहता है और कोई भी इसके बारे में सटीक भविष्यवाणी नहीं कर सकता. हालांकि कुछ लोग सही अंदाज लगा लेते हैं लेकिन ऐसा केवल एक या दो बार सही हो सकता है, हर बार नहीं. ज्यादातर इन्वेस्टर्स मानते हैं कि वे सही समय पर मार्केट के उतार—चढ़ाव का सही और वक्त पर पता लगा सकते हें लेकिन मार्केट की टाइमिंग का पता रहना केवल एक मिथ है.

जिस तरह जिंदगी में अनुशासन होना जरूरी है, उसी तरह इन्वेस्टमेंट में भी अनुशासन मायने रखता है. अच्छा रिटर्न देने के बावजूद स्टॉक मार्केट में इन्वेस्ट करने वालों की कमी है, जिसकी वजह इसका उतार—चढ़ाव है. हालांकि जिन इन्वेस्टर्स ने सिस्टेमेटिक अप्रोच के साथ पैसा लगाया है, उन्हें वक्त के साथ सही रिटर्न मिला है. इसलिए जरूरी है कि लॉन्ग टर्म सिनेरियो को ध्यान में रखने के अलावा धैर्य के साथ ​अनुशासनात्मक इन्वेस्टमेंट अप्रोच को फॉलो किया जाए.

7. फैसलों पर इमोशंस को न होने दें हावी

स्टॉक मार्केट में इमोशंस के लिए जगह नहीं है, विशेषकर डर और लालच के लिए. ऐसे कई मामले हुए, जब इमोशंस पर कंट्रोल न कर पाने के ​चलते कई इन्वेस्टर्स को मोटा नुकसान उठाना पड़ा. यह सच है कि कम समय में छोटे इन्वेस्टमेंट का बड़ा रिटर्न पाने की कहानियां सुनने के बाद एक झटके में पैसा बनाने की ललक से दूर नहीं रहा जा सकता है. इसके चलते इन्वेस्टर्स बिना ज्यादा सोचे अनजान शेयरों को खरीद लेते हैं और बाद में मार्केट का रुख बदलते ही उन्हें नुकसान उठाना पड़ता है. इसलिए यह सलाह दी जाती है कि अच्छा रिटर्न पाने के लिए अटकलों को न मानकर सही रिसर्च के साथ स्टॉक चुने जाएं.

निवेश से अच्छा रिटर्न पाने की चाहत गलत नहीं है लेकिन जो कैसे इन्वेस्ट कर सकते हैं? संभव न हो यानी अव्यावहारिक रिटर्न पाने की आशा गलत है. कई स्टॉक मार्केट स्टडीज दर्शाती हैं कि 12 फीसदी से ज्यादा रिटर्न अलार्म है कि आगे मार्केट गिरने वाला है. ऐसे में होने वाला नुकसान अर्निंग से कहीं ज्यादा होगा.

9. कभी न लगाएं जरूरत का पैसा

​इन्वेस्टमेंट के लिए कभी भी अपनी जरूरत का पैसा इस्तेमाल नहीं करना चाहिए. हमेशा अतिरिक्त पैसे को ही इन्वेस्ट करना चाहिए. स्टॉक मार्केट के मामले में यह जरूरी नहीं है कि अगर आज नुकसान नहीं हो रहा है तो आगे भी कभी नहीं होगा. इसलिए सलाह दी जाती है कि अतिरिक्त फंड ही इन्वेस्ट करें ताकि अगर कभी नुकसान उठाना पड़े तो भी आपकी जिंदगी सही तरीके से चलती रहे. हालांकि नुकसान के बजाय प्रॉफिट भी हो सकता है, इसलिए जोखिम लें लेकिन संभलकर.

​आज के दौर में विश्व के सभी राष्ट्रों के मार्केट अपनी-अपनी बाउंड्री तोड़कर एक साथ आ रहे हैं और मिलकर एक ग्लोबल विलेज तैयार कर रहे हैं. ऐसे में विश्व के किसी भी हिस्से में घटित कोई भी घटना या कोई भी महत्वपूर्ण ईवेंट, हर देश के फाइनेंशियल मार्केट को काफी ज्यादा प्रभावित करता है. इसलिए जरूरी है कि सभी ग्लोबल ईवेंट्स को लेकर अपडेट रहा जाए और पोर्टफोलियो को लगातार मॉनिटर किया जाए. अगर आप खुद से पोर्टफोलियो का रिव्यू नहीं कर सकते तो अच्छा रहेगा कि किसी फाइनेंशियल एडवायजर या प्लानर को हायर कर लिया जाए.

मैं म्यूचुअल फंड्स में सीधे निवेश कैसे कर सकता हूँ?

अगर आपका KYC पूरा हो चुका है तो आप म्यूचुअल फंड में सीधे ऑफलाइन या ऑनलाइन निवेश कर सकते हैं। अगर आप ऑनलाइन ट्रांज़ैक्शन करने में असहज महसूस करते हैं, तो आप नज़दीकी शाखा में जाकर फंड में निवेश कर सकते हैं।

ऑनलाइन म्यूचुअल फंड की स्कीमों में सीधे निवेश करने का सबसे आसान तरीका है और आपको कमीशन भी नहीं देना पड़ता। आप फंड की वेबसाइट या उसके RTA की साइट या फिर फिनटेक प्लेटफॉर्म से ऑनलाइन निवेश कर सकते हैं। फंड की वेबसाइट पर सीधे निवेश करने पर आपको कई लॉगिन मैनेज करने पड़ते हैं।

डायरेक्ट प्लान में निवेश करने का मतलब है कि आप फिनांशियल प्लान बनाने, अपने गोल के लिए सबसे सही फंड्स को चुनने, अपने पोर्टफोलियो को नियमित तौर पर मैनेज करने और ज़रूरत पड़ने पर उसमें फेरबदल करने की ज़िम्मेदारी लेते हैं। हर किसी को म्यूचुअल फंड में सही फंड चुनना और पोर्टफोलियो को मैनेज करना नहीं आता है। इसलिए डायरेक्ट प्लान उन निवेशकों के लिए है जो इसे आसानी से कर सकते हैं। अन्यथा, म्युचुअल फंड के बारे में कम जानकार लोगों को डिस्ट्रीब्यूटर द्वारा निवेश करने की सलाह दी जाती है।

रेटिंग: 4.44
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 124
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *